अभिनेत्री तमन्ना भाटिया का कहना है कि ‘बाहुबली’ के दो भागों का हिस्सा होने से न केवल उन्हें शारीरिक रूप से साहसी बनाया है बल्कि जिंदगी में फैसले लेने के मामले में भी बहादुर बनाया है.अभिनेत्री की वर्ष 2019 में पहले ही दो फिल्में रिलीज हो चुकी हैं और उनके पास विभिन्न शैलियों व भाषाओं की कई फिल्में हैं.

Kangana Ranaut: ‘मणिकर्णिका’ के लिए कंगना की अजीबो-गरीब डिमांड, फिल्म को मिलना चाहिए था नेशनल अवार्ड

तमन्ना की तेलुगू फिल्म ‘एफ2 फन एंड फ्रस्ट्रेशन’ व ‘कन्ने कलाईमाने’ इस साल पहले ही पर्दे पर दस्तक दे चुकी हैं और ‘देवी 2’, ‘दैट इज महालक्ष्मी’ के साथ-साथ ‘सई रा नरसिम्हा रेड्डी’ रिलीज के लिए तैयार हैं. इसके अलावा उन्होंने हाल ही में एक तेलुगू फिल्म और एक तमिल फिल्म साइन की है.

हिंदी फिल्मों के बारे में पूछने पर तमन्ना ने बताया, “फिलहाल तो मैं किसी हिंदी फिल्म में काम नहीं कर रही. मैं हिंदी फिल्में करने के लिए तैयार हूं. लेकिन मैं हिंदी के नाम पर कुछ भी नहीं करना चाहती. मैं फिल्म करना चाहती हूं क्योंकि मैं एक अच्छी फिल्म का हिस्सा बनना चाहती हूं. ‘सई रा नरसिम्हा रेड्डी’ हिंदी में भी रिलीज होगी. यह फिल्म पूरे भारत में रिलीज होगी.”

चिरंजीवी अभिनीत इस फिल्म में मेगास्टार अमिताभ बच्चन भी दिखाई देंगे.

वह एक कलाकार और एक व्यक्ति के रूप में उनकी जिंदगी बदलने के लिए एस.एस. राजमौली की प्रसिद्ध फिल्म ‘बाहुबली’ को श्रेय देती हैं, जिसमें उन्होंने अवंतिका नाम की एक योद्धा का किरदार निभाया था.

उन्होंने कहा, “मैं उनमें से हूं, जिन्हें ऊंचाई से बहुत डर लगता था. मैं कोई ऐसी व्यक्ति नहीं थी जो बहुत साहसी हो. क्योंकि मुझे बहुत सारे स्टंट करने थे और ‘बाहुबली’ में किरदार की शारीरिकता बहुत आवश्यक थी. मैं न केवल शारीरिक रूप से, बल्कि अपने जीवन में निर्णय लेने के मामले में भी बहुत अधिक साहसी और बहादुर बनी.”

तमन्ना ने कहा, “मैं जान-बूझकर अब ऐसी फिल्में चुनती हूं, जिनमें मेरे लिए कुछ दिलचस्प हो.”

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ