ईद-उल-अजहा (Eid-ul-Adha) यानी बकरीद (Bakrid 2018) 22 अगस्त को मनाई जाएगी. (Eid-ul-Adha) एक अरबी शब्द है इसका मतलब ‘ईद-ए-कुर्बानी यानी बलिदान की भावना. इसे ‘कुर्बानी की ईद’ और सुन्नत-ए-इब्राहीम भी कहते हैं.’ ईद-उल-फितर प्रेम और मिठास घोलती है, वहीं ईद-उल-जुहा अपने फर्ज (कर्तव्यों) के लिए कुर्बानी की भावना सिखाती है. इस दिन अपनी सबसे प्यारी चीज की कुर्बानी दी जाती है. यह रमजान महीने की समाप्ति के लगभग 70 दिनों के बाद मनाया जाता है. त्यौहार के इस मौके पर गली-मोहल्ले और घरों में बॉलीवुड के गाने बजते हैं. हिंदी सिनेमा के कई ऐसे गाने हैं जो खासकर ईद के मौके के लिए ही बने हैं. आइए देखते हैं ऐसे गाने-

बता दें, अरब में दुम्बा (भेड़), ऊंट की कुर्बानी दी जाती है. जबकि भारत में बकरे, ऊंट और भैंस की कुर्बानी दी जाती है. अल्लाह सबसे प्यारी चीज की कुर्बानी देने को कहा था, और अल्लाह ने हजरत इब्राहिम के बेटे को बचाकर दुम्बा कुर्बान करा दिया. इसलिए अरब में दुम्बा की कुर्बानी का चलन शुरू हुआ. बकरे या अन्य जानवरों की भी कुर्बानी दी जाने लगी. जिन जानवरों की कुर्बानी देते हैं उसे कई दिन पहले से अच्छे से खिलाया-पिलाया जाता है. उससे लगाव किया जाता है, फिर उसी की कुर्बानी दी जाती है.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.