मुंबई: टीवी से फिल्मों तक का सफर तय करने वाले एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत ने सबके होश उड़ा दिए हैं. इस सुसाइड के बाद बॉलीवुड से जुड़े कई लोगों ने स्वीकार किया है कि फिल्म इंडस्ट्री बहुत निर्दयी है और अक्सर लोगों को आत्महत्या जैसा कदम उठाने के लिए प्रेरित करती है. इसी सिलसिले में नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी द्वारा अभिनीत ‘बाबूमोशाय बंदूकबाज’ के निर्देशक कुशान नंदी ने स्वीकरा है कि उन्होंने कई बार अपनी जीवनलीला समाप्त करने के बारे में सोचा लेकिन वह ऐसा करने का साहस नहीं कर सके. Also Read - शेखर सुमन, संदीप सिंह पर सुशांत के परिवार ने लगाए गंभीर आरोप, बोले-नौटंकी कर रहे हैं ये लोग 

रविवार को अभिनेता सुशांत सिंह की आत्महत्या के बाद नंदी ने इस बात को स्वीकार किया. उन्होंने ट्वीट किया, “अगर मैं यह कहूं कि मैंने कभी भी खुद की जान लेने के बारे में नहीं सोचा तो यह झूठ होगा. ऐसा कई बार हुआ है..बस ऐसा कभी करने का साहस नहीं कर सका, साथ ही अपने पीछे कुछ लोगों को छोड़ जाने का विचार भी डराता है. लेकिन हां, मैं ऐसा करने के काफी करीब आया हूं. ” Also Read - शेखर सुमन सुशांत के परिजनों से मिलने पहुंचे पटना, बोले- पिता अब भी गहरे सदमे में, ये ओपन और शट केस नहीं

उन्होंने कहा कि मेडिटेशन, योग से मदद मिली. लेकिन, मैं समझता हूं कि मेरी तरह कई लोग हैं. यह ऐसा कदम उठाने या न उठाने के बीच की एक बारीक रेखा है. नंदी ने कहा कि पिछले कुछ महीनों से वह बेहतर महसूस कर रहे हैं.

सुशांत रविवार को अपने बांद्रा स्थित घर पर फांसी से लटके पाए गए थे. कथित रूप से वह पिछले कुछ महीनों से अवसाद से जूझ रहे थे और इसका इलाज करा रहे थे.