मुंबई: अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) ने अपनी आगामी फिल्म ‘सांड की आंख’ (Saand Ki Aankh) के लिए अपनी मां सुमित्रा से हरियाणवी सीखी थी. भूमि का कहना है कि अपने किरदार को और अधिक प्रामाणिक बनाने के लिए अभिनेत्री के पास गुप्त हथियार के तौर पर उनकी मां थी.

एक्ट्रेस भूमि पेडनेकर ने कहा कि मैं चाहती हूं कि जब लोग मुझे पर्दे पर देखें तो वे भूल जाएं कि वे मुझे देख रहे हैं, इसलिए मेरी पूरी कोशिश रहती है कि मैं अपने किरदार को प्रामाणिक बनाऊं. मेरी कोशिश रहती है कि दर्शक मेरे किरदार से भावनात्मक रूप से जुड़ जाएं. ‘सांड की आंख’ के लिए मैं अपने हरियाणवी लहजे को वास्तविक बनाना चाहती थी और इसके लिए मैंने अपने लहजे को प्रामाणिक बनाने के लिए फिल्मांकन और डबिंग के दौरान अपनी मां की मदद ली थी.

बेबो ने दी रणबीर-आलिया के रिश्ते को मंजूरी, कहा- दोनों की शादी से मुझे होगी सबसे ज्यादा खुशी

फिल्म ‘सांड की आंख’ में भूमि ने दुनिया की सबसे बुजुर्ग शार्पशूटर प्रकाशी तोमर की भूमिका निभाई है, जो अपनी बहन चंद्रो (तासपी पन्नू) के साथ दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला शार्पशूटर्स होने का खिताब जीतती हैं. आपको बता दें कि यह फिल्म ग्रामीण परिवेश पर आधारित है, जिसमें गांव की बालिकाओं में आत्मविश्वास जगाती हैं और उन्हें खेलों को अपनाने के लिए प्रेरित करती हैं.