हिंदी सिनेमा में ‘कास्टिंग’ पेशेवर के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाली अभिनेत्री भूमि पेडणेकर का मानना है कि कैमरे के पीछे काम करने से मिला अनुभव उन्हें रचनात्मक कार्यो में बेहतर प्रदर्शन देने में मदद करता है। भूमि से जब पूछा गया कि कैमरे के पीछे के अनुभव से उन्हें अभिनय में मदद मिलती है? उन्होंने आईएएनएस को बताया, “मुझे पता नहीं कि इससे मुझे कोई फायदा मिला है, लेकिन ज्ञान ताकत है, तो हां हो सकता है।”

भूमि ने आगे कहा, “मुझे नहीं पता कि इससे मुझे दूसरे की तुलना में बेहतर बनाया है, लेकिन हां मुझे रचनात्मक कार्यों में काफी मदद मिलती है।” अपनी आगामी फिल्म ‘मनमर्जियां’ के साथ व्यस्त भूमि ने कहा कि किसी भी स्तर पर काम करने से इंसान को फायदा ही होता है।

भूमि ने आईएएनएस को बताया, “मुझे लगता है कि किसी भी स्तर पर काम करने से आपको फायदा मिलता है। मैंने ‘दम लगाके हईशा’ से पहले पांच साल काम किया था।” अभिनेत्री ने यह भी बताया कि उन्होंने अपनी किशोरावस्था से ही काम करना शुरू कर दिया था।’मनमर्जियां’ में एक बार फिर आयुष्मान खुराना और भूमि की जोड़ी को देखा जाएगा।