गर्दन पर टैटू की वजह से सिडनी पब में प्रवेश न पा सके रियलिटी टीवी स्टार सिद्धार्थ भारद्वाज ने बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने कहा कि भारतीय एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में टैटू वालों के साथ भेदभाव होता है. उन्होंने टैटू के कारण काम में भेदभाव के अपने अनुभव को शेयर किया और कहा शरीर पर टैटू होने पर लोग अलग नजर से देखते हैं. Also Read - Big Boss 13: कभी एक दूसरे पर जान न्यौछावर करते थे रश्मि देसाई और नंदीश संधू, क्या रही तलाक की वजह? देखिए तस्वीरें


Also Read - समंदर किनारे बिकनी अवतार में दिखीं Roadies Rising की विनर, तस्वीर देख फैंस बोले- क्या कहर ढाह रही हैं

View this post on Instagram

Now most of you might think what is that intense look for so hey!!Im staring right into the eyes of MONDAY and letting it know who’s bigger and who’s stronger!!and that its just 4 days away from being totally forgotten when MA main man!!FRIDAY takes over but for now I am trying to give Monday some motivation!!you with me??YOU WITH ME!!!!?? #mondayvibes #instamondays #mondaymotivation #sidstylemondays #sidharth #gamefaceon Also Read - IND vs WI: विराट कोहली ने विव रिचर्ड्स को कहा Big Boss, ये है वजह

A post shared by Sidharth Bhardwaj (@theaslisidharth) on

सिद्धार्थ ने बताया, “मेरे शरीर पर टैटू की वजह से मुझे कई प्रोजेक्ट्स में भूमिकाओं के लिए मना कर दिया गया है. इससे पहले कई लोग मुझे भूमिकाओं के प्रस्ताव देते थे.” उन्होंने कहा, “टैटू के कारण खारिज किए जाने से बुरा लगता है. अगर आप अभिनेता को उसके अभिनय के आधार पर मना करते हैं तो यह पूरी तरह स्वीकार्य होगा, लेकिन टैटू के आधार पर भेदभाव अनुचित है.”

छोटी चीजों पर समाज में होने वाले भेदभाव से निराश, सिद्धार्थ ने लोगों से एक-दूसरे को स्वीकार करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा, “हम 1980 के दशक में नहीं रह रहे हैं. हम सभी को एक-दूसरे को खुली बाहों से स्वीकार करना चाहिए और उन्हें जाने बिना उन पर राय नहीं बनानी चाहिए.”

उन्होंने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि कई लोगों का विदेशों में अप्रिय अनुभव रहा है और उन्होंने भेदभावपूर्ण परिस्थितियों का सामना किया है, लेकिन भारत में, हम भी वही कर रहे हैं. हम दक्षिण भारतीय, मुंबई के लोग दिल्ली के लोगों का मजाक बनाते हैं, हमारे अंदर इस तरह की भावना नहीं होनी चाहिए.”