नई दिल्ली: गूगल पर भारत का सबसे बड़ा स्ट्रैटेजिस्ट कौन सर्च करने पर अमूमन दो नाम आते हैं,  प्रशांत किशोर और प्रभात चौधरी।  दोनो नाम बिहारी हैं। बिहार और बिहारी का डंका हर जगह बजता है, जिससे बॉलीवुड भी अछूता नहीं रहा है। चाहे शत्रुघ्‍न सिन्‍हा हों, सुशांत सिंह राजपूत, मनोज वाजपेयी, पंकज त्रिपाठी, जो भी हों । मगर इसके अलावा एक और शख्‍स है जो इंटरटेंमेंट की दुनिया में बेहद प्रभावी और कामयाब है। वो ना तो एक्‍टर है, ना प्रोड्यूसर है और न ही डायरेक्‍टर है। वह इंटरटेन्मेंट मार्केटिंग और ब्रांडिंग का सबसे बड़ा नाम है, जिसे बॉलीवुड का चाणक्‍य भी कहा जाता है। हम बात कर रहे हैं – स्पाइस पीआर और एंट्रपी डिजिटल के संस्थापक प्रभात चौधरी की। Also Read - बिहार चुनाव से पहले पुलिस मुख्यालय का अजीबोगरीब फरमान जारी, मचा सियासी बवाल

बॉलीवुड के दिग्‍गज ह्रितिक रोशन, आमिर खान, शाहरुख़ खान, दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, प्रभास, टाइगर श्रॉफ़, सारा अली खान जैसे नाम प्रभात के पर्सनल क्‍लाइंटस हैं, जो अपनी ब्रांडिंग और छवि बनाने के लिए पूरी तरह प्रभात पर निर्भर करते हैं। बॉलीवुड में मार्केटिंग और ब्राण्ड बिल्डिंग शायद सबसे महत्वपूर्ण काम हैं। हर कोई आज अच्छी मार्केटिंग और ब्रांडिंग  चाहता है। सोशल मीडिया के जमाने में कोई एक्टर मार्केटिंग के गेम में पीछे नहीं होना चाहता। प्रभात चौधरी इस गेम के धुरंधर माने जाते हैं। हर बड़ा और छोटा स्टार उनके साथ काम करने के लिए इच्छुक रहता हैं। Also Read - किसान बिल: पीएम मोदी का विपक्ष पर कटाक्ष-किसान सब देख रहा है, कौन हैं ये बिचौलिए...

प्रभात ने भारत को सबसे बड़ी फ़िल्म बाहुबली को राष्ट्रीय स्तर पर मार्केटिंग की। ‘आख़िर कट्टप्पा ने बाहुबली को क्यूँ मारा’ के कैम्पेन का श्रेय उन्हें ही दिया जाता है। स्पाइस पीआर और एंट्रपी डिजिटल इंटरटेंमेंट, दुनिया को सबसे बड़ी मार्केटिंग कम्पनीज़ हैं। हर दूसरी बड़ी फ़िल्म पर  स्पाइस का नाम दिखता है। आपको बता दें कि प्रभात चौधरी पटना में बड़े हुए और मूलतः दरभंगा के पंचोभ गाँव से है। उनकी प्राथमिक शिक्षा  सेंट माइकल स्कूल से हुई और फिर उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से  ग्रैजूएशन किया। Also Read - PM मोदी ने बिहार को दी रेल महासेतु की बड़ी सौगात, कहा-नीतीश कुमार जैसा CM हो तो क्या...

बाहुबली, दंगल, उरी, गली बोय, छिछोरे ये सभी फ़िल्में में प्रभात का योगदान है। प्रभात का पर्सनल टाइम बड़े बड़े स्टार्स चाहते है और उन्हें संकटमोचन की तरह देखा जाता है। चाहे जब संजय दत्त जेल से निकले, या ह्रितिक कंगना का झगड़ा हो, दीपिका पदकोने की शादी हो या सारा अली खान का बालीवुड लांच हो, प्रभात चौधरी की फ़ुट्प्रिंट आप को इन सब में दिखाई और सुनाई देगी।

अपने काम को लेकर प्रभात चौधरी कहते हैं कि हमारी दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण है मानसिक अनुशासन और ज़्यादा जानने की जिज्ञासा। बदलते दुनिया की नयी सच्चाइयों से अप्डेटेड रहना होता है और इसलिए ज़रूरी है कि मैं अंदर रह के भी हमेशा एक आउट्साइडर बना रहूँ। डिजिटल समाज एक नया समाज होगा और उस समाज की रूपरेखा और उसके व्यवहार को समझना हमारी प्राथमिकता है। सोशल मीडिया अच्छी है लेकिन उसका एक डार्क साइड भी है। हमें अच्छाईयो को अपनाना है।