फिल्म ‘टाइटैनिक’ में काल हॉकले का किरदार निभाने वाले अभिनेता बिली जेन का कहना है कि फिल्म में लियोनाडरे के किरदार जैक को हर कीमत पर मरना ही था. निर्देशक जेम्स कैमरून की 1997 की फिल्म ‘टाइटैनिक’ के कई बरसों बाद भी इस बात पर बहस होती है कि आखिर क्यों जैक को बर्फीले पानी में मरना पड़ा जबकि रोस (केट विंसलेट) पानी में लकड़ी के एक फट्टे पर सुरक्षित बच निकली. Also Read - 110 साल बाद फिर से सफर पर निकलेगा 'टाइटैनिक', वही होगा रूट और उतने ही पैसेंजर

जेन ने ‘पीपुल डॉट कॉम’ को बताया, “आपके हीरो को मरना पड़ा. मुझे नहीं पता कि इसके अलावा और क्या हो सकता था.” वह कहते हैं कि उकना (जैक) किरदार ही ऐसे गढ़ा गया था कि उसे मरना ही था. Also Read - Interesting Fact: आज ही डूबा था टाइटेनिक, दुनिया के लिए अहम है 14 अप्रैल

वहीं फिल्म के निर्देशक का इस बारे में अलग ही नजरिया है जेम्स का मानना है कि जैक ने अपनी प्रेमिका रोज के लिए जगह बनाई ताकि वह जिन्दा रह सके. जैक का मानना था कि बचाव दल वाले आकर उसे बचा लेंगे. Also Read - avatar 2 will take more time to release says James Cameron | जेम्स कैमरून ने उठाया 'अवतार 2' के नई रिलीजिंग डेट से पर्दा, कहा...

बता दें कि फिल्म को 14 ऑस्कर अवार्ड्स के लिए नॉमिनेशन मिला था. टाइटेनिक जहाज को आइसबर्ग से टकराकर पूरी तरह से समुद्र में डूबने में कुल 2 घंटे 40 मिनट का वक्त लगा.

Input with IANS