अपने दमदार गानों से सबको थिरकने के लिए मजबूर कर देने वाले गायक ‘दलेर मेहंदी’ का आज 18 अगस्त को जन्मदिन है. 49 वर्षीय दलेर पटना साहिब बिहार के रहने वाले हैं. उनके माता-पिता ने उनका नाम दलेर क्यों रखा ये बड़ा ही दिलचस्प है. दरअसल, उनके माता-पिता ने उस समय के खूंखार डाकू ‘दलेर सिंह’ के नाम से इन्सपायर होकर उनका नाम ‘दलेर’ रखा था. बड़े होने पर उनके माता-पिता ने उस वक्त के फेमस सिंगर ‘परवेज मेहंदी’ के नाम से प्रेरित होकर उनके नाम के साथ मेहंदी जोड़ दिया.

दलेर का संगीत से गहरा रिश्ता रहा है उनका परिवार सात पीढ़ियों से संगीत से जुड़ा है. दलेर को उनके माता-पिता ने बचपन में ही राग और सबद की शिक्षा दे दी थी. बता दें कि दलेर के पिता सरदार अजमेर सिंह चंदन गुरु कीर्तन करते थे. उन्हें शास्त्रीय संगीत का पूरा ज्ञान था.

दलेर का संगीत के प्रति ऐसी दीवानगी थी कि उन्होंने 11 साल की उम्र में गोरखपुर के रहने वाले उस्ताद राहत अली खान साहिब से शिक्षा लेने के लिए घर छोड़ दिया था और भागकर उनके पास पहुंच गए थे.

महज 13 साल की उम्र में जौनपुर में 20 हजार लोगों के सामने अपनी पहली स्टेज परफॉर्मेंस दी थी. दलेर मेहंदी की पहला एल्बम ‘बोलो ता रा रा रा’ था जो बेहद हिट हुआ था.

अगर निजी जिन्दगी के बारे में बात करें तो उनकी पहली शादी अमरजीत मेहंदी से हुई थी, उनसे बेटा मंदीप मेहंदी और बेटी अजित मेहंदी हुए. मंदीप और अजित दोनों गाना गाते हैं.

दलेर मेहंदी की दूसरी शादी आर्किटेक्ट और सिंगर तरनप्रीत से हुई है. दलेर मेहंदी की बेटी अजित मेहंदी की शादी मशहूर सूफी सिंगर हंस राज हंस के बेटे नवराज से हुई है.