नई दिल्ली: भाजपा ने फिल्म निर्माता और निर्देशक अनुराग कश्यप पर आरोप लगाया है कि पूर्व में यूपी की अखिलेश सरकार ने ‘मसान’ फिल्म के निर्माण के लिए अनुराग कश्यप को 2 करोड़ दिए थे. अब ऐसी ही राशि अनुराग कश्यप ‘सांड की आंख’ और ‘मुक्केबाज’ फिल्म के लिए योगी सरकार से मांग रही है. भाजपा प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने कहा कि अनुराग कश्यप का मोदी द्वेष की वजह का अब पर्दाफाश हो गया है. अनुराग ऐसे ही धन इकट्ठा करते रहे हैं. इसके सर्मथन मे भाजपा ने तीन पत्र जारी किए हैं जो सदस्य सचिव, सूचना और संपर्क विभाग, उतरप्रदेश के हैं.

पहले पत्र में साफ-साफ लिखा है कि अनुराग कश्यप के 11 दिसंबर 2014 के पत्र के जवाब में सूचना संपर्क विभाग, यूपी ने 1 मार्च 2015 को 2 करोड़ की राशि निर्गत कराने की अनुशंषा करती है. पत्र में लिखा गया है कि मसान फिल्म का निर्माण पर कुल लागत 8 करोड़ आया और फिल्म की 97 फीसदी शूटिंग यूपी में हुआ है. इसलिए सूचना विभाग यूपी सरकार की फिल्म नीति के तहत लागत का 25 फीसदी जारी राशि जारी करता है.

‘सांड़ की आंख’ फिल्म के संदर्भ में अनुराग कश्यप के अनुदान वाले पत्र का जवाब देते हुए सूचना और संपर्क विभाग, यूपी ने 28 सितंबर 2018 को साफ साफ लिखा कि आपके अनुरोध को फिल्म नीति के तहत नहीं पाया गया है. ठीक ऐसा ही एक और पत्र सूचना विभाग ने फिल्म ‘मुक्केबाज’ के संदर्भ में 13 दिसंबर 2019 को अनुराग कश्यप को लिखा और सब्सिडी देने में असमर्थता जताई. जाहिर है इन पत्रों के माध्यम से भाजपा ने फिल्मकार अनुराग कश्यप पर निशाना साधा है. गौरतलब है कि नागरिकता कानून और एनआरसी पर अनुराग कश्यप मोदी सरकार के खिलाफ मुखर रहे हैं.