ईद के मौके पर बॉबी देओल की फिल्म रेस 3 रिलीज हुई थी. फिल्म में उनके कमबैक को लोगों ने पसंद किया है. बॉबी 1990 के दशक में ‘गुप्त : द हिडेन ट्रथ’, ‘सोल्जर’ और ‘अजनबी’ जैसी सफल फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं. लेकिन उन्होंने ‘शाकालाका बूम बूम’ के साथ कई असफल फिल्में भी की हैं. बड़े पर्दे पर वह आखिरी बार 2013 में ‘यमला पगला दीवाना 2’ में उनके पिता और वरिष्ठ अभिनेता धर्मेद्र और भाई सनी देओल के साथ दिखे थे. बॉबी देओल अपने करियर में क्या इसलिए नहीं ऊंचे उठ सके कि वह इतने हैंडसम हैं कि सिर्फ रईस दिख सकते हैं, गरीब नहीं? दो हफ्ते पहले रिलीज हुई ‘रेस-3’ में उन्होंने एक बार फिर रईस युवा के रोल के साथ वापसी की कोशिश की परंतु फिल्म की कमाई का पूरा क्रेडिट सलमान खान के खाते में चला गया.

बॉबी ने मीडिया से बातचीत में कहा था कि वह बहुत ग्लैमरस दिखते हैं और आम तौर पर उन्हें ऐसे ही रोल ऑफर होते हैं. उनका कहना है कि फैन्स उन्हें स्टाइलिश भूमिकाओं में देखना चाहते हैं.

बॉबी के अनुसार जब उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था तो वह निर्माता-निर्देशकों से अलग-अलग तरह की भूमिकाएं मांगते थे मगर उन्हें एक ही जवाब मिलता था, ‘तू गरीब नहीं दिख सकता.’

बॉबी ने कहा कि मुझे काम करना होगा, अपने पैरों पर खड़े होना है और इसे खुद करना है, क्योंकि मेरी मदद करने वाला कोई नहीं है. बॉबी (49) ने कहा कि बड़े पर्दे से गायब रहने से उन पर बहुत असर पड़ा. उन्होंने कहा, फिल्मी दुनिया से मेरी पहचान गायब हो गई थी. ‘बिच्छू’, ‘अपने’, ‘झूम बराबर झूम’ जैसी सफल फिल्मों के बावजूद प्रसिद्धि का लाभ नहीं उठा पाने के प्रश्न पर उन्होंने कहा, “मैं अज्ञानी था, मुझे एहसास ही नहीं हुआ कि मैंने वैसी प्रसिद्धि हासिल कर ली है.उन्होंने कहा कि अब मुझे लगता है कि यदि मैं अज्ञानी नहीं रहा होता तो ऐसा नहीं हुआ होता. लेकिन हार कभी नहीं मानें, कड़ी मेहनत कीजिए और आप जीवन में उपलब्धियां पा सकते हैं. उनका कहना है कि वह मुश्किल समय से गुजर चुके हैं और अंदाजा नहीं लगा सकते कि क्या हो रहा है. ‘रेस-3’ के बाद वह अपनी होम प्रोडक्शन ‘यमला पगला दीवाना-2’ में दर्शकों के बीच भाई सनी देओल और पिता धर्मेंद्र के साथ आएंगे.

 

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.