देश में यौन उत्पीड़न के खिलाफ तेजी से बढ़ रहे ‘मी टू’ #MeeToo अभियान पर बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की पत्नी और लेखिक-निर्देशक ताहिरा कश्यप ने अपने विचार रखे हैं. उन्होंने कहा है कि असली वहशी रिश्तेदार भी हो सकते हैं. बचपन में यौन उत्पीड़न का सामना कर चुकीं 35 वर्षीय लेखिका ने ट्विटर पर एक लंबे पोस्ट के माध्यम से अपनी कहानी शेयर की है. Also Read - भतीजी के यौन उत्पीड़न के आरोपों पर नवाजुद्दीन सिद्दीकी के भाई शमास ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'सच जल्द आएगा सामने'

कश्यप ने ट्वीट कर कहा, “मुझे करीब 20 साल बाद शांति मिली, जब मैंने इसे अपने पति और परिजनों के साथ इसे शेयर किया. अक्सर करीबी लोग, विशेषकर रिश्तेदार (जिन पर आप विश्वास करते हैं) आपकी जिंदगी में असली वहशी (रियल क्रीप्स) होते हैं. मुझे पता है कि (यौन) उत्पीड़न होने पर कैसा महसूस होता है, बरसों तक यह अंदर बसा रहता और उसे याद करने पर किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाते हैं.” Also Read - वर्क फ्रॉम होम: 'बॉस' रात में करते हैं VIDEO CALL, कम कपड़ों में करते हैं मीटिंग, परेशान हैं महिलाएं

कश्यप ने कहा कि वह शारीरिक स्पर्श से डरने लगी थीं और कहा कि वह आयुष्मान ही हैं जिन्होंने प्यार और धैर्य के साथ उनके घाव भरे. उन्होंने कहा, “जब मैंने अपने पति (उस वक्त प्रेमी) के साथ डेटिंग शुरू की थी तो मैं शारीरिक स्पर्श से काफी डरी हुई थी, मैं शारीरिक निकटता के प्रत्येक कदम पर रोया करती थी. उनके प्यार और धैर्य ने मुझे संभाला.”


View this post on Instagram

Dreams do come true! Might not look it, but it took time for my script to find the perfect platform and for people to have faith in my vision as a director. And I wouldn’t have it any other way as I get to work with the amazing @atulkasbekar @tanuj.garg @tseries.official @findingshanti Big, big thank you for backing me on this one!special thanks to my soul sister @reliablerani ❤️ …………….. Repost from @tseries.official @TopRankRepost #TopRankRepost Our untitled 3rd collaboration with @ellipsisentertainment after #TumhariSulu & #CheatIndia to be directed by the brilliant, @tahirakashyap The film, a warm slice-of-life drama set in Mumbai, will go on floors next year. Casting begins shortly. @itsbhushankumar @tanuj.garg @atulkasbekar55

A post shared by tahirakashyap (@tahirakashyap) on

उन्होंने कहा कि हमारे पहले बच्चे के जन्म के बाद भी उस पीड़ा की यादें मुझे डराया करती थीं. उन्होंने कहा, “मेरे पहले बच्चे के बाद भी मेरे सीने पर भारी बोझ बना हुआ था. उस पीड़ा की यादें मुझे डराया करती थीं और इसलिए मैंने अपनी बचपन की पीड़ा को अपने पति और परिजनों को बताने का फैसला किया.”

कश्यप ने कहा कि मी टू केवल चर्चित चेहरों के लिए नहीं है और उन्हें लगता है कि सभी क्षेत्रों की महिलाओं को उन पुरुषों को सामने लाने में शर्म नहीं आनी चाहिए, जिन्होंने अपनी सीमाएं पार कीं. ‘टॉफी’ निर्देशक ने मी टू अभियान में पुरुषों के हिस्सा लेने और महिलाओं को सच बोलने के लिए प्रोत्साहित करने की भी सराहना की.