बॉलीवुड एक्टर गोविंद नामदेव ने स्टूडेंट्स से पश्चिमी देशों की नकल करने के बजाय भारतीय सांस्कृतिक धरोहर का सम्मान करने का आग्रह किया है. उनकी फिल्म ‘डीसेंट ब्वॉय’ रिलीज होने वाली है. यह फिल्म भारतीय शिक्षा प्रणाली पर आधारित है. गोविंद ने कहा, “भारत में शिक्षा के व्यावसायीकरण से देश के शैक्षणिक संस्थान पश्चिमी शिक्षा प्रणाली की नकल कर रहे हैं.”

‘बैंडिट क्वीन’ में भी नजर आ चुके गोविंद नामदेव के अनुसार, किसी भी शख्स के लिए खुद की संस्कृति का सम्मान करना बहुत जरूरी है. उन्होंने कहा, “पश्चिमी देशों की नकल करने के बजाय भारतीय सांस्कृतिक विरासत के लिए सम्मान पैदा करने के लिए एक संतुलन बनाए रखा जाना चाहिए.” बता दें, ‘डीसेंट ब्वॉय’ में गोविंद एक पिता की भूमिका में हैं, जो शिक्षा के व्यावसायीकरण के खिलाफ हैं.

इसके अलावा फिल्म में अभिनेता रवि किशन भी प्रमुख भूमिका में हैं. गोविंद नामदेव का जन्म 3 सितंबर 1950 को सागर में हुआ था. गोविंद नामदेव ने अपने करियर की शुरुआत साल 1992 में डेविड धवन की फिल्म शोला और शबनम से की थी. उन्होंने हिंदी फिल्मों में कई तरीके के रोल किए जिसके लिए उन्हें कई सारे अवार्ड्स से भी सम्मानित किया गया है.

वह हिंदी सिनेमा में फिल्म बैंडिट क्वीन, विरासत, सत्या, कच्चे धागे, मस्त, फिर भी दिल है हिंदुस्तानी, सत्ता, सरफ़रोश, कयामत जैसी फिल्मों में अपने अभिनय के लिए जाने जाते हैं.