मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार, फरहान अख्तर, रिचा चड्ढा सहित अन्य अभिनेताओं ने उत्तर प्रदेश के हाथरस में 19 साल की युवती से सामूहिक बलात्कार और उसकी मौत के मामले में दोषियों के लिए ”कठोर सजा” की मांग की है.Also Read - सपा के शासन में जाली टोपी वाले गुंडे व्यापारियों को धमकाते थे, UP Dy CM केशव मौर्य

अक्षय कुमार ने ट्विटर पर लिखा है कि घटना से वह बहुत ”क्षुब्ध और निराश हैं” और उन्होंने दोषियों को फांसी देने की मांग की है.
अक्षय कुमार ने ट्वीट किया है, ‘‘हाथरस सामूहिक बलात्कार में इतनी क्रूरता, बर्बरता. कब रूकेगा ये सब? हमारे कानून और उनका अनुपालन इतना कड़ा होना चाहिए कि सजा की सोच कर ही बलात्कार करने वालों की रूह कांप जाये. ऐसे दोषियों को फांसी पर लटका देना चाहिए. बेटियों और बहनों की सुरक्षा के लिए आवाज उठाएं. हम कम से कम इतना तो कर सकते हैं.’’ Also Read - PM मोदी 7 दिसंबर को यूपी के गोरखपुर में 9600 करोड़ के प्रोजेक्‍ट्स देश को समर्पित करेंगे, AIIMS का भी उद्घाटन करेंगे

Also Read - INSIDE EDGE SEASON 3: 'इनसाइड एज' Release..Date..Streaming Platform देखें सारी डिटेल

रितेश देशमुख ने भी समान राय व्यक्त की. उनका मानना है कि ऐसा अपराध करने वालों को ”सार्वजनिक रूप से फांसी दी जानी चाहिए.”

फरहान अख्तर ने दिल टूटने का इमोजी पोस्ट करते हुए लिखा है, ”यह बहुत दुखद, दुखद दिन है.” उन्होंने लिखा है, ”इसे कब तक चलने देंगे हम.”

स्वरा भास्कर ने कहा कि क्रूर/बर्बर सामूहिक बलात्कार इस बात का सबूत है कि पैशाचिक प्रवृत्ति का कोई ओर-छोर नहीं है.
एक्‍ट्रेस ने कहा, ”हम बीमार, अमानवीय समाज हो गए हैं. शर्मनाक है. दुखद.”

अभिनेत्री यामी गौतम ने कहा, ‘‘यह दुखद है कि महिलाओं के साथ हमेशा ऐसी क्रूरता होती है.

रिचा चड्ढा ने लिखा है, ‘‘हाथरस पीड़िता को न्याय मिले. सभी को सम्मान के साथ जीने का अधिकार है. दोषियों को सजा दो.’’

बता दें कि युवती से 14 सितंबर को सामूहिक बलात्कार हुआ. उसे अलीगढ़ के जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उसकी हालत में कोई सुधार नहीं होने पर सोमवार को उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया. बलात्कार के बाद आरोपियों ने युवती का गला घोंट कर उसकी हत्या करनी चाही थी और उनसे बचने के प्रयास में उसने अपनी ही जीभ काट ली. अलीगढ़ अस्पताल के प्रवक्ता ने बताया था कि युवती के पैर काम नही कर पा रहे थे, जबकि हाथों ने आंशिक रूप से काम करना बंद कर दिया था.