इलाहाबाद: अगले साल प्रयाग में लगने जा रहे कुंभ मेले को यादगार बनाने की कतार में एक और कड़ी जुड़ने जा रही है. दरअसल इस बार कुंभ गान तैयार किया जा रहा है और इसे आवाज देने के लिए अमिताभ बच्चन, शंकर महादेवन और कैलाश खेर जैसे कलाकारों से बातचीत चल रही है. अगस्त के अंत तक कुंभ गान लॉन्च कर दिया जाएगा. Also Read - 'बड़े मियां छोटे मियां' के 22 साल, रवीना टंडन ने शेयर किया बिग बी और गोविंदा से जुड़ा ये दिलचस्प किस्सा

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग के उप निदेशक दिनेश कुमार ने बताया कि पहली बार कुंभ के लिए गान तैयार किया गया है. इसे कौन आवाज देगा, यह कुछ दिनों में तय हो जाएगा. अमिताभ बच्चन, शंकर महादेवन, कैलाश खेर जैसे कलाकारों से बातचीत चल रही है और अगस्त के अंत तक इसे लॉन्च कर दिया जाएगा. Also Read - कोरोना संकट के बीच अयोध्‍या में शनिवार से शुरू होगी रामलीला, राजनीतिक और बॉलीवुड कलाकार लेंगे हिस्सा

उन्होंने बताया कि कुंभ की महिमा और इसकी विशेषताओं को लोगों तक पहुंचाने के लिए प्रदेश सरकार ने कुंभ गान तैयार करने का फैसला किया है. इसमें कुंभ के दौरान विशेष आकर्षण का केन्द्र रहने वाले अखाड़ों, साधु संतों और शाही स्नान के बारे में रोचक जानकारी को शामिल करने का भी सुझाव है. वैसे यह गान तैयार करने का मकसद कुंभ की महिमा, इसकी प्राचीनता और इसके महात्मय और इसके धार्मिक पहलुओं पर प्रकाश डालना है. Also Read - Sushant Singh Rajput Case में CBI बोली-जांच जारी है, क्‍लोजर रिपोर्ट वाली मीडिया की खबरें 'काल्पनिक'

शुरू में यह गान केवल हिंदी और संस्कृत में तैयार किया जाएगा और बाद में अन्य भाषाओं में भी इसे जारी करने की योजना है ताकि गैर हिंदी भाषी और कुंभ के बारे में कम जानकारी रखने वाले लोगों को इस गीत के माध्यम से इसके बारे में जानकारी दी जा सके. अभी यह तय नहीं हुआ है कि यह गान कितनी समयावधि का होगा.

कुमार ने बताया कि इसे पूरे हिंदुस्तान में एफएम चैनल, आकाशवाणी आदि पर बजाया जाएगा. मैकान नाम की एक विज्ञापन एजेंसी ने कुंभ गान तैयार किया है. कुंभ की अन्य तैयारियों की जानकारी देते हुए कुमार ने बताया, ” हम मेला क्षेत्र में 30 थीम गेट तैयार करवा रहे हैं जिसमें 20 सेक्टरों के लिए एक – एक गेट होगा. इसके अलावा घाट की ओर जाने वाले रास्तों के लिए 10 गेट होंगे.

इसके लिए आरएफपी हम बना रहे हैं और जुलाई के अंत तक बोलीकर्ता तय कर लिए जाएंगे. ” गेट की थीम कुंभ पर केंद्रित होगी जिसमें कुंभ से जुड़ी चीजें जैसे समुद्र मंथन में क्या क्या चीजें निकली हैं, उन्हें दर्शाया जाएगा. मसलन शंख, नागवासुकी, अमृत कलश. उन्होंने बताया कि इसके अलावा पेंट माई सिटी के तहत सार्वजनिक दीवारें, रेलवे के पुल, आरओबी, ओवरहेड टैंक , सरकारी भवनों आदि पर पेंट कराया जाएगा जिसके लिए बोलियां जल्द ही आमंत्रित की जाएंगी.

दिनेश कुमार ने बताया कि मेला क्षेत्र में टेंट सिटी बसाए जाने की तैयारी है जिसके लिए 9 बोलीकर्ता सामने आए हैं और वित्तीय बोलियां अब खोली जाएंगी. टेंट सिटी में 5,000 कॉटेज बनाए जाएंगे और इसके परिचालन, रखरखाव और किराया तय करने का अधिकार बोलीकर्ता के पास होगा.

उन्होंने बताया कि अरैल में 100 हेक्टेयर क्षेत्र में बसने जा रही टेंट सिटी के लिए बिजली, पानी, सीवेज जैसी मूलभूत सुविधाएं हम उपलब्ध कराएंगे. कछार क्षेत्र में टेंट सिटी बसने से वहां ठहरने वाले लोग आसानी से गंगा स्नान कर सकेंगे.