नई दिल्ली: भारत एक ऐसा देश है, जहां आम आदमी के लिए मनोरंजन के दो ही साधन हैं- क्रिकेट और सिनेमा, इसलिए कलाकारों को सामाजिक रूप से जिम्मेदार होना चाहिए. ये बात कही है बोमन ईरानी ने. बोमन का मानना है कि खुश रहना और लोगों को खुश रखना महत्व रखता है. Also Read - बिकिनी पहन बाथटब में उतरे या पहने साड़ी, कहर है ये एक्ट्रेस, कभी हरभजन सिंह के संग...

बोमन ने आईएएनएस को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘कुछ लोग कहेंगे कि मैं अर्थहीन सिनेमा करता हूं, लेकिन जब तक मेरे दर्शक खुश होंगे और उन्हें अपने पैसे वसूल लगेंगे, मैं तब तक खुश हूं’. Also Read - इस एक्ट्रेस को बिकिनी वाली तस्वीरें पोस्ट करने का है शौक, हर अंदाज़ है दिलकश

गौरतलब है कि इस समय बोमन फिल्म ‘झलकी’ की तैयारियों में बिजी हैं. इसमें वे नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का किरदार निभा रहे हैं. इस फिल्म में ‘बाल श्रम और शोषण’ के मार्मिक मुद्दों को उठाया गया है. इस फिल्म में काम करने के लिए उन्होंने 10 मिनट में ही हामी भर दी थी. Also Read - बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रही ये हुस्न परी, दक्षिण के फिल्मों में दिखा चुकी हैं जलवा

Boman Irani

बोमन ने कहा कि इस फिल्म ने उन्हें सत्यार्थी के बारे में बात करने का मौका मिला है. वे फिल्म करने के लिए इसलिए राजी हुए, क्योंकि लोगों को उन जैसे धर्मयोद्धा का सम्मान करना चाहिए’.

बॉलीवुड के नए कलाकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अच्छा होगा कि वे अपने काम पर ध्यान दें और बॉलीवुड की राजनीति में न फंसें.
(आईएएनएस इनपुट्स)