पूर्व भारतीय खिलाड़ी संदीप सिंह की बायोपिक ‘सूरमा’ शुक्रवार को देशभर में रिलीज हो गई. इस फिल्म की ओपनिंग डे की कमाई काफी धीमी रही. वहीं संदीप सिंह के किरदार की बात करें तो दिलजीत दोसांझ ने इस फिल्म में शानदार एक्टिंग की है. फिल्म ने पहले दिन 3.25 करोड़ रुपए की कमाई की जो की उम्मीद से काफी कम है. हालांकि ट्रेड एनालिस्ट का कहना है कि अभी दो वीकेंड के दो दिन बचे हुए हैं, उम्मीद है फिल्म और अच्छी कमाई करेगी.

फिल्म संदीप सिंह के परिवार की आर्थिक स्थिति और प्रेम संबंधों को लेकर उजागर होती है. वैसे ये कहा जा सकता है कि इस एंगल को फिल्म में काफी खूबसूरती से पेश किया गया है. फिल्म की कहानी साल 1994 से शाहाबाद के गांव में संदीप सिंह (दिलजीत दोसांझ) के बचपन से शुरू होती दिखाई देती है. बचपन में संदीप अपने बड़े भाई विक्रमजीत सिंह (अंगद बेदी), पिता (सतीश कौशिक) और मां के साथ रहता है.

फिल्म में दिखाया गया है कि बचपन में दोनों भाई हॉकी खेलने के लिए जाते हैं, लेकिन कोच के खराब बर्ताव से नाखुश होकर संदीप हॉकी से मन चुराने लगता है. समय गुजरने के साथ कहानी भी आगे बढ़ती है और एक दिन संदीप की नजर महिला हॉकी खिलाड़ी हरप्रीत (तापसी पन्नू) पर पड़ती है और उससे प्यार हो जाता है.

सूरमा का स्क्रीनप्ले कमाल का है, जिसकी वजह से वह दर्शकों को बांधे रखती है. फिल्म की सिनेमेटोग्राफी बाकी बायोपिक से काफी बेहतर है. फिल्म का एक और पॉजिटिव एंगल उसका नैरेशन है. निर्देशक को पता है कि दर्शक को क्या सुनाना है क्या बाईपास करना है. फिल्म के कुछ सीन आपको सोचने पर मजबूर करते हैं तो काफी जगह दर्शक इमोशनल हो जाते हैं.