नई दिल्ली. सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) की जांच समिति की बैठक के बाद पद्मावति को यूए सर्टिफिकेट के साथ हरी झंडी देने का फैसला किया है. सीबीएफसी ने फिल्म में कुछ परिवर्तन का भी फैसला किया है और इसी कड़ी में फिल्म का नाम पद्मावत किया जा सकता है. कमिटी की बैठक 28 दिसंबर को हुई थी. एक बार जरूरी और सहमति वाले सुधार हो जाने के बाद फिल्म को सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा. 

supreme court dismisses petition against release of Padmavati | पद्मावती की रिलीज के खिलाफ याचिका SC ने की खारिज, सरकार को दी नसीहत

supreme court dismisses petition against release of Padmavati | पद्मावती की रिलीज के खिलाफ याचिका SC ने की खारिज, सरकार को दी नसीहत

इतना ही नहीं, फिल्म में जिस घूमर गाने को लेकर विवाद था, उसके पहले भी एक नोटिस चलाया जाएगा. इस नोटिस में घूमर का अर्थ समझाया जाएगा. सीबीएफसी ने कहा कि एक बैलेंस सोच को दिमाग में रखते हुए ये फैसला लिया गया है जिससे फिल्मेकर्स का भी नुकसान न हो और समाज की आस्था को भी ठेस न पहुंचे.

इससे पहले सेंसर बोर्ड ने फिल्म ‘पद्मावती’ देखने के लिए जयपुर के दो अनुभवी इतिहासकारों और उदयपुर राजघराने को आमंत्रित किया था. इन्हीं से फिल्म पर राय भी मांगी गई थी. इन इतिहासकारों में प्रोफेसर बी.एल. गुप्ता और प्रोफेसर आर.एस. खांगरोट शामिल हैं. संजय लीला भंसाली की ये फ‍िल्‍म व‍िरोध के चलते लटकी हुई है, पहले ये फ‍िल्‍म 1 द‍िसंबर को र‍िलीज होनी थी.

रानी पद्मावती की कहानी

ये फिल्म रानी पद्मावती की ज़िन्दगी पर आधारित है जो बेहद खूबसूरत थीं. उनकी ख़ूबसूरती के चर्चे दूर-दूर तक फैले हुए थे. पद्मावती की ख़ूबसूरती के बारे में जब अलाउद्दीन खिलजी को पता चला तो वो उन्हें देखने के लिए तड़प उठा और बहाने से चित्तौड़गढ़ के राजा रावल रतन सिंह के पास पहुंच गया. खिलजी रानी पद्मावती को देखने की इच्छा ज़ाहिर करता है लेकिन रानी उसके सामने नहीं आती बल्कि शीशे के ज़रिए देखने के लिए कहती हैं. खिलजी रानी पद्मावती की एक झलक शीशे में देखता है और उन्हें पाने के लिए तड़प उठता है.

रानी पद्मावती को पाने की चाह में खिलजी चित्तौड़गढ़ पर हमला कर देता है और इस जंग में राजा रावल रतन सिंह की मृत्यु हो जाती है. खिलजी को लगता है कि अब वो रानी को पा सकता है लेकिन रानी पद्मावती अपने पति की मृत्यु की खबर सुनते ही बाकी राजपूत महिलाओं के साथ जौहर कर लेती हैं यानी एक बड़े आग के कुंड में कूदकर अपनी जान दे देती हैं. खिलजी जब महल के अन्दर जाता है तो उसे बस रानी पद्मावती की राख मिलती है.