बालासाहब ठाकरे की बायोपिक ‘ठाकरे’ को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह की खबरें सामने आ रही हैं. फिल्म के ट्रेलर लॉन्च होने से कुछ घंटे पहले सेंसर बोर्ड की नाराजगी सामने आई है. केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने अंतिम समय में इसके डॉयलॉग्स में बदलाव करने की बात आजकल सुर्खियो में बनी है. इसके बाद अब सेंसर बोर्ड ने इस मामले में अपनी सफाई दी है. Also Read - Sacred Games 3 को लेकर नवाजुद्दीन का बड़ा खुलासा, सुनकर हैरान हो गए सभी!

Also Read - 'गणेश गायतोंडे' और 'कालीन भैया' एक साथ आएंगे इस फिल्म में नज़र, यहां देखिए Trailer 

सेंसर बोर्ड के अधिकारी तुषार करमाकर ने हालांकि कहा है कि बिना किसी विवाद के बदलाव किए गए हैं. करमाकर ने कहा, “फिल्म ‘ठाकरे’ के मराठी ट्रेलर में कुछ ऑडियो में बदलाव करने का सुझाव दिया गया था. ये फैसला फिल्म निर्माता और सेंसर बोर्ड की सहमति से लिया गया है.” उन्होंने कहा, “यह तथ्यों को सीधे प्राप्त करने के लिए हैं न कि कोई विवाद पैदा करने के लिए जोकि है ही नहीं. Also Read - नवाजुद्दीन सिद्दीकी और उनके परिवार को मिली राहत, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगाई रोक


View this post on Instagram

Few more hours of wait for the trailer of the toughest role I have done ever #Thackeray

A post shared by Nawazuddin Siddiqui (@nawazuddin._siddiqui) on

इसके अलावा सेंसर बोर्ड ने कहा, ”इस समय फिल्म के ट्रेलर और प्रोमो प्रमाणित किए गए हैं और इसमें बदलाव निमार्ताओं के पारस्पारिक सहमत से लिया गया है. इसके लिए सही प्रमाणन प्रक्रिया का पालन किया जाएगा.” इस बीच एक सूत्र का कहना है कि सेंसर प्रमाणन के लिए फिल्म को ज्यादा मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ेगा.

सेंसर बोर्ड के करीबी सूत्र ने कहा, “बालासाहब ठाकरे को सार्वजनिक मंच पर अपने मन की बात कहने के लिए जाना जाता था. उनकी सभी विवादास्पद टिप्पणियां लोगों के बीच मौजूद हैं. इसलिए बोर्ड को उन बयानों से छेड़छाड़ करने या उन्हें बदलने की जरूरत ही क्या है जो पहले से ही लोगों को पता है.”