नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान की वाल्मीकी समुदाय पर टिप्पणी के मामले में अर्जी पर सुनवायी दो सप्ताह बाद करने का निर्णय लिया है. सलमान ने फिल्म ‘टाइगर जिंदा है’ के प्रमोशन के दौरान वाल्मीकि समुदाय के खिलाफ अपनी कथित अपमानजनक टिप्पणी के लिए अपने खिलाफ छह राज्यों में दर्ज प्राथमिकियों को रद्द करने का अनुरोध किया है. Also Read - सलमान के दुश्मन के साथ अरबाज खान करेंगे काम, विवेक ओबरॉय के साथ इस फिल्म में आएंगे नजर

Also Read - Forbes' highest paid actors 2020: अक्षय कुमार बने सबसे ज़्यादा कमाई करने वाले एक्टर, जानिए खान तिकड़ी का स्टेटस

दो सप्ताह बाद सुनवाई Also Read - ऋतिक रोशन की 'वॉर 2' में क्या शाहरुख खान और सलमान खान की हो रही है एंट्री? दिलचस्प होगा ये कारनामा    

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की एक पीठ ने पक्षों से कहा कि वे तब तक अपनी कागजी कार्रवाई पूरी कर लें. पीठ ने अर्जी पर अंतिम सुनवायी दो सप्ताह बाद करना तय किया.

अदालत ने खान के खिलाफ विभिन्न राज्यों में दर्ज प्राथमिकियों के आधार पर आपराधिक कार्यवाही और जांच पर गत 23 अप्रैल को रोक लगा दी थी. वरिष्ठ अधिवक्ता नीरज किशन कौल अभिनेता की ओर से पेश हुए और अभिनेता के खिलाफ शिकायतों को प्रेरित करार दिया.

‘टाइगर जिंदा है’ के विरोध में सड़कों पर उतरा: वाल्मीकि समाज

इससे पहले अदालत ने अधिवक्ता से कहा था कि वह खान के खिलाफ दिल्ली, गुजरात, राजस्थान और मुंबई जैसे राज्यों में दर्ज मामलों की जानकारी मुहैया कराएं. बता दें कि प्रमोशन के दौरान सलमान खान के साथ शिल्पा शेट्टी भी मौजूद थीं और उनके खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई गई थी.