Corona Effect – कोरोना महामारी ने हर चीज पर भारी असर डाला है और टेलीविजन शो भी इससे नहीं बचे हैं. चाहे वह ‘दुर्गा’ जैसा शो हो जो तीन महीने में ऑफ-एयर हो गया या ‘शादी मुबारक’ जो सिर्फ 9 महीने में खत्म हो गया.Also Read - मुंबई लॉकडाउन ने बढ़ाई इन टीवी शो की मुश्किलें, इन जगहों पर लिखी जाएगी नई कहानी...रियलिटी शो का ये है प्लान

किसी न किसी वजह से ये डेली सोप कुछ ही महीनों में खत्म हो जाते हैं और कुछ को अपनी शूटिंग लोकेशन बदलनी पड़ती है. कोविड और लॉकडाउन ने वित्तीय संकट और प्रतिबंधों की संख्या के मामले में प्रसारकों, टेलीविजन निर्माताओं और अभिनेताओं के लिए कई चुनौतियां पेश की हैं. Also Read - लखनऊ में आम उत्पादकों को सता रहा कोरोना का डर, बढ़ते मामलों के प्रभाव से हैं परेशान

शूटिंग स्थानों को स्थानांतरित करने से लेकर वापस आने तक, अभी भी कई प्रोटोकॉल, स्वच्छता कार्य और वित्तीय बोझ हैं, जिनका सामना इन डेली सोप के निर्माताओं और अभिनेताओं को करना पड़ रहा है. Also Read - Bigg Boss ने पलटा सीन, फंसे अभिनव, रो पड़ीं रुबीना, अब एक्टर किसे चुनेंगे? प्यार या फिर गेम?

स्टार भारत पर ‘गुप्ता ब्रदर्स’ एक लॉकडाउन-चरणबद्ध शो था. यह 5 अक्टूबर, 2020 को शुरू हुआ, और इसका अंतिम प्रसारण 26 जनवरी, 2021 को हुआ. दुर्भाग्य से अधिकांश शो की तरह, शो के सभी प्रमुख ट्विस्ट और टर्न होने के बावजूद लॉकडाउन के दूसरे चरण के बीच इसे भी हटा दिया गया.

सोनल वेंगुर्लेकर, जो डेली सोप की प्रमुख अभिनेताओं में से एक हैं, अपनी निराशा व्यक्त करती हैं और कहती हैं, “अभिनेता हमेशा अपनी परियोजनाओं के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ करने की कोशिश करते हैं क्योंकि यह उनकी कमाई का एकमात्र साधन भी है. लेकिन जब यह अचानक बंद हो जाता है तो बहुत सी चीजें प्रभावित होती हैं.”

सोनल अपने मुश्किल दिनों के बारे में बताती हैं कि, “मेरे पास अपने नए घर और कार के लिए अपनी ईएमआई का भुगतान करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं था. इस चरण को बनाए रखने के लिए मुझे वास्तव में अपने सभी एफडी और म्यूचुअल फंड को तोड़ना पड़ा. हाल ही में एक लंबे अंतराल के बाद, मेरे सभी बकाया साफ कर दिए गए.”

इस तरह लॉकडाउन ने निश्चित रूप से अभिनेताओं को प्रभावित किया है और वे खुद को आर्थिक रूप से बचाए रखने के लिए वैकल्पिक व्यावसायिक विचारों के बारे में सोचने को मजबूर हैं.

वह आगे कहती हैं, “जिस तरह की फीस हम लेते थे, वह सचमुच कोविड के कारण 40-50 प्रतिशत तक कम हो गई है. आजकल, सभी ऑडिशन ऑनलाइन हो रहे हैं जो उस तरह की किक नहीं देते हैं जो हम प्रोडक्शन हाउस के ऑडिशन रूम में करते थे. इसलिए मुझे अपनी कमाई जारी रखने के लिए नए रास्ते के बारे में सोचना होगा.”

इस महामारी की अवधि के दौरान शुरू हुए नए शो के लिए, चीजें कठिन थीं क्योंकि एक समय उन्हें दर्शकों से जुड़ने के लिए समय चाहिए था और दूसरी तरफ वित्तीय दायित्व भी थे.

पिछले साल कलर्स पर शुरू हुआ ‘पवित्र भाग्य’ भी सात महीने में ही खत्म हो गया.

कुणाल जयसिंह, जो शो के मुख्य पात्रों में से एक थे, वो कहते हैं कि सुंदर कहानी और अद्भुत कलाकारों के बावजूद धारावाहिक बंद हो गया क्योंकि लॉकडाउन के कारण शूटिंग रोक दी गई थी.

वह साझा करते हैं कि, “जब कोविड -19 महामारी की पहली लहर हुई तो हमारी शूटिंग रुक गई थी. हमने दर्शकों के साथ अपनी कनेक्टिविटी खो दी थी. यह एक नया शो था, इसलिए हम दर्शकों के बीच अपनी जगह बनाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन ऐसा होने से पहले, सब कुछ रुक गया. जब लॉकडाउन के बाद हमने इसे फिर से शुरू किया, तो कोई भी इसे फिर से देखने को तैयार नहीं था और आखिरकार हम ऑफ-एयर हो गए.”

इस प्रकार यह कई अभिनेताओं और निर्माताओं के लिए भी निराशा और असंतोष का दौर है. अपने शो को जारी रखने की तमाम कोशिशों के बावजूद वे अक्सर असफल रहे.

एक और उदाहरण जो इसी श्रेणी में आता है वह शो ‘दुर्गा’ है जो 14 दिसंबर, 2020 को शुरू हुआ और तीन महीने में समाप्त हुआ.

स्टार कास्ट में शामिल अभिनेत्री काजल पिसल का मानना है कि बजट से लेकर टीआरपी रेटिंग तक शो पर लगातार दबाव होता है और जब इन कारकों को पूरा नहीं किया जाता है, तो चीजें एक कटु नोट पर समाप्त हो जाती हैं.

वह टिप्पणी करती हैं, “अगर यह एक महामारी नहीं होती तो हमारे पास खुद को साबित करने के लिए कुछ समय होता लेकिन वर्तमान परिदृश्य में कोई भी हमें दूसरा मौका नहीं देगा. चूंकि टेलीविजन शो में सभी आयु वर्ग के अभिनेता होते हैं इसलिए कई बार वृद्ध अभिनेता और बच्चों को शूट करने की अनुमति नहीं थी, इसने वास्तव में पूरे ट्रैक को अस्त-व्यस्त कर दिया. साथ ही, बजट को आधा कर दिया गया है और स्थिति को छोड़कर हमारे पास दोष देने के लिए कोई नहीं है. वर्तमान समय में, कोई भी पैसे को जोखिम में डालने को तैयार नहीं है और इस अवधि में तीन महीने से शो ऑफ-एयर है.”

हालांकि, इस सभी संकट काल के बीच कई शो अपने स्थानों को स्थानांतरित करके, उचित योजना बनाकर, सभी प्रोटोकॉल और सावधानियों का पालन करके जारी रखने में कामयाब रहे. सागर पारेख, जो सोनी सब पर ‘तेरा यार हूं मैं’ के अभिनेता हैं, कहते हैं, “यहां तक कि जब हम मुंबई के बाहर शूटिंग कर रहे थे तब भी यह एक सुखद अनुभव था. एक कहावत है कि, ‘कठिन समय कभी नहीं रहता है लेकिन कठिन लोग करते हैं.’ शूटिंग का समय अलग था और अब वे अलग हैं. हम सभी को समय सीमा को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करने की जरूरत है. पॉजिटिव चीजों पर ध्यान देना सबसे अच्छा है और हर कोई उम्मीद कर रहा है कि साल खत्म होने से पहले हम अपने सामान्य दिनों में वापस आ जाएंगे.”

इसलिए निश्चित रूप से चीजें सामान्य हो रही हैं लेकिन इन शो को मौद्रिक स्थिरता हासिल करने और प्रसारण जारी रखने में ज्यादा समय लगेगा.