एक्शन दृश्यों व फर्राटा भरती कारों और मोटरों और दुर्घटनाओं के रोमांचक दृश्यों से भरपूर ‘फास्ट एंड फ्यूरियस’ श्रृंखला की आठवीं फिल्म ‘फेट ऑफ द फ्यूरियस’ शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज हो गई। माना जा रहा है कि फिल्म में रोमांचक कार रेसिंग दृश्यों और दुर्घटनाओं को फिल्माने के लिए अरबों डॉलर खर्च किए गए हैं। इस बात का हालांकि खुलासा नहीं हो पाया है कि फिल्म में शानदार क्लासिक मोटरों और आधुनिक महंगी कारों पर कितना धन खर्च हुआ है।

वेबसाइट ‘इंश्योर द गैप डॉट कॉम’ ने इस श्रृंखला की पहली सात फिल्मों में कारों पर खर्च हुए धन का अनुमान लगाया है और इसकी लागत करीब 51.4 करोड़ डॉलर से ज्यादा है।

फिल्म के खलनायक डैकार्ड शॉ (जेसन स्टेथैम) द्वारा इस्तेमाल किए गए कारों का खर्च लगभग 18 करोड़ डॉलर है यानी अकेले उन्हीं के कारों पर इतने धन का नुकसान हुआ है।

पहली फिल्म में कारों पर 10 लाख डॉलर से कम खर्च हुआ था, लेकिन पांचवीं फिल्म में खर्च की लागत 10 करोड़ पर पहुंच गई। फिल्म के सातवें भाग में लगभग 30 करोड़ डॉलर की लागत वाले कार दुर्घटना के दृश्यों के फिल्मांकन के दौरान नष्ट हुए। इनमें दुनिया की सबसे महंगे कारों में से एक कार भी शामिल थी।

माना जा रहा है कि इस श्रृंखला की आगामी फिल्मों में रोमांचक दृश्यों और दुर्घटना के दृश्यों के फिल्मांकन में इस्तेमाल होने वाले कारों की संख्या व लागत बढ़ती जाएगी और दर्शक सिनेमाघरों में बैठकर दुर्गटनाग्रस्त कारों की कीमत का अंदाजा ही लगाते रह जाएंगे।