मुंबई: सिने और टीवी आर्टिस्ट एसोसिएशन (सिनटा) ने मंगलवार को कहा कि वह 2008 में नाना पाटेकर के खिलाफ तनुश्री दत्ता के यौन उत्पीड़न के आरोप का समाधन नहीं कर पाई थी, लेकिन अब अभिनेत्री को अपना समर्थन देती है. दत्ता ने एक दशक पहले सिनटा में शिकायत दर्ज कराई थी, क्योंकि उन्होंने ‘हॉर्न ओके प्लीज’ फिल्म के एक गाने के लिए पाटेकर के साथ शूटिंग के दौरान असहज महसूस किया था. अभिनेत्री ने आरोप लगाया था कि संगठन ने उनकी शिकायत पर ध्यान नहीं दिया.

तनुश्री दत्ता ने लगाया आरोप, ‘सेट पर मेरे साथ बदतमीजी करते थे नाना पाटेकर’

अपने नए बयान में सिनटा ने कहा, ” वह किसी भी शख्स के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाले कृत्य की निंदा करते हैं और हमारे लिए किसी भी तरह का यौन उत्पीड़न अस्वीकार्य है.”

तनुश्री-नाना के मामले में मीडिया ने अमिताभ से किया सवाल..मिला करारा जवाब

बयान में कहा गया है कि मार्च 2008 में सिनटा की कार्यकारी समिति में दायर की गई दत्ता की शिकायत देखने के बाद हमें लगता है कि सिनटा की संयुक्त विवाद निपटान समिति और आईएफटीपीसी (तब एएमपीटीपीपी के तौर पर जानी जाती थी) में अनुचित फैसला हुआ था, क्योंकि इसमें यौन उत्पीड़न की मुख्य शिकायत का समाधान नहीं किया गया था.

तनुश्री के समर्थन में बॉलीवुड के कई दिग्गज, कहा- उन्हें चुप न कराया जाए, आरोपों की जांच हो

संगठन ने कहा कि तब अलग कार्यकारी समिति थी और सिनटा को लगता है कि यह बहुत खेदजनक है और इसके लिए माफी काफी नहीं हो सकती हैं. इसलिए हमने आज संकल्प लिया है कि ऐसी चूक दोबारा नहीं होने देंगे.

तनुश्री दत्ता का नया खुलासा, ‘इस डायरेक्टर ने मुझसे कहा था कपड़े उतार कर नाच’

बयान में कहा गया है कि सिनटा अपने सदस्यों की गरिमा और आत्मसम्मान के लिए मजबूती से खड़ी है. यौन उत्पीड़न एक गंभीर अपराध है लेकिन दुर्भाग्य से सिनटा का संविधान हमें तीन साल से ज्यादा पुराने मामले को उठाने की इजाजत नहीं देता है.

नाना पाटेकर ने तनुश्री के आरोपों को किया खारिज..कहा, ‘कानूनी कार्रवाई करूंगा’