बॉलीवुड संगीतकार विशाल डडलानी ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा पांच हजार रुपये से अधिक के पुराने नोटों को एक ही बार जमा करने की शर्त को वापस लेने पर उसकी खिल्ली उड़ाते हुए उसे ‘रबर-बैंड गवर्नेस’ करार दिया है। आरबीआई ने बुधवार को यू-टर्न लेते हुए केवाईसी मानक के अनुरूप खातों के लिए जारी उस सर्कुलर को वापस ले लिया, जिसके मुताबिक खाताधारक 30 दिसंबर तक पांच हजार रुपये से अधिक की रकम केवल एक ही बार जमा कर सकते थे। दूसरी बार 5,000 रुपये से अधिक रकम जमा कराने पर बैंक अधिकारी उनसे पूछताछ कर सकते थे।

आरबीआई के कदम पर रिपोर्टों को रिट्वीट करते हुए डडलानी ने पोस्ट किया, “साइमन वापस जाओ! नहीं, नहीं, आ जाओ! इंतजार करो..मजाक कर रहा था, वापस जाओ! नहीं, नहीं, आ जाओ, लेकिन केवल गुरुवार को, और एक पैर पर। आरबीआई जैसा ट्वीट।”

उन्होंने कहा, “रबर बैंड गवर्नेस! अपना दिमाग सही कर लें कृपया! या चीजों को सही तरीके से चलाने के लिए और जगह-जगह भाषण देने के लिए कुछ पेशेवर लोगों को किराये पर रख लें।”

देश में नोटबंदी पर पहले खुशी जताने वाले संगीतकार ने इसका समर्थन करने के लिए ट्विटर उपयोगकर्ताओं से माफी भी मांगी।

एक उपयोगकर्ता ने सवाल उठाया कि वह तो नोटबंदी की घोषणा के दिन इसका समर्थन कर रहे थे। इस पर डडलानी ने ट्वीट किया, “मेरी गलती। सॉरी। सोचा था कि यह स्मार्ट और बहादुरी भरा फैसला है। नहीं पता था कि यह इतना लचर, इतना खराब तरह से प्लान किया गया होगा, दिमागविहीन और दिलविहीन होगा।”