इमरान हाशमी स्टारर ‘चीट इंडिया’ की रिलीज से कुछ दिन पहले फिल्म के निर्माताओं को सेंसर बोर्ड के सुझाव पर फिल्म के नाम में बदलाव कर ‘व्हाई चीट इंडिया’ करना पड़ा. हालांकि, इसके अभिनेता और निर्माता इमरान हाशमी का कहना है कि यह ‘अतार्किक’ और ‘हास्यास्पद’ है. ‘व्हाई चीट इंडिया’ शिक्षा प्रणाली के बारे में है. फिल्म से इमरान बतौर निर्माता आगाज कर रहे हैं.

फिल्म की रिलीज से महज कुछ दिन पहले फिल्म के नाम में बदलाव के बारे में पूछे जाने पर इमरान ने मीडिया से बात की. उन्होंने कहा, “सीबीएफसी (केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड) यानी सेंसर बोर्ड के सदस्यों ने शीर्षक को भ्रामक पाया. उनके अनुसार, हमारी फिल्म भारत को नकारात्मक संदर्भ में दिखा रही है, लेकिन यह वही है..जो हम दिखा रहे हैं. वह व्यवस्था का दर्पण है..उन्हें इस बात को समझना चाहिए.”

 

View this post on Instagram

 

Don’t ask WHY. But it’s WHY. Sigh. #whycheatindia #cheatindia

A post shared by WHY Emraan Hashmi (@therealemraan) on

उन्होंने कहा कि आखिर में यह शिक्षा प्रणाली की खामियों को उजागर करती है. उन्होंने कहा, “मौलिक रूप से, अगर सिस्टम में एक खुली और विश्लेषणात्मक सोच है, तो आप ऐसी अतार्किक बातें नहीं करेंगे. फिल्म के शीर्षक को अंतिम क्षण में बदलने का कोई मतलब नहीं है.” इमरान हाशमी ने हाल ही में फिल्म के प्रचार के दौरान मीडिया को बताया, “‘चीट इंडिया’ टाइटल एक साल से रहा, सेंसर बोर्ड ने हमारे सभी प्रोमो पहले ही मंजूर कर लिए थे, लेकिन अब उन्होंने जो किया है, वह बिल्कुल अतार्किक है. इसमें कोई तर्क नहीं है.”

हालांकि, उन्हें लगता है कि शीर्षक परिवर्तन फिल्म के मकसद को प्रभावित नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि दर्शक इतने परिपक्व हैं कि वे किसी खास फिल्म को जज कर सकते हैं.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.