फिल्म ‘फन्ने खां’ के प्रचार में व्यस्त अभिनेता अनिल कपूर का कहना है कि उन्होंने बैकग्राउंड डांसर के रूप में करियर की शुरुआत की थी. अनिल ने सोमवार को मीका सिंह, बादशाह और सुनिधि चौहान के साथ रियलिटी शो ‘फिर भी दिल है हिंदुस्तानी 2’ के सेट पर मीडिया से बातचीत की. उन्होंने अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए कहा, “ज्यादातर लोग नहीं जानते कि मैंने वर्ष 1979-80 में बैकग्राउंड डांसर के रूप में करियर की शुरुआत की थी.” अपने आपको फन्ने खां समझते हो ? ये सबने सुना होगा लेकिन क्या इसका इतिहास जानते हैं?

कुछ हिंदी, तेलुगू और कन्नड़ फिल्मों में छोटी भूमिका निभाने के बाद उन्होंने वर्ष 1983 में ‘वो सात दिन’ में एक अभिनेता के रूप में अपनी शुरुआत की.उन्होंने उन दिनों के बारे में कहा, “मैंने अपना अभिनय कोर्स पूरा किया लेकिन मुझे कोई काम नहीं मिला, एक शो था जिसकी शूटिंग विदेश में होने वाली थी. इस शो में जरीना वहाब जी, पद्मिनी कपिला, हेमंत कुमार साहब और नूतन जी थे. जब वे शूटिंग के लिए विदेश जाने को तैयार थे, तो उन्हें कुछ बैकग्राउंड डांसर्स की जरूरत थी. मैं बैकग्राउंड डांसर के तौर पर वहां गया और मुझे उस समय एक शो के 15 पाउंड मिलते थे.”उन्होंने कहा, “मैं उन सभी का शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मुझे काम का मौका दिया.”

बता दें, अनिल कपूर की फिल्म फन्ने खां के ट्रेलर में दिखाया है कि किस तरह एक पिता अपनी बेटी के जरिए सपनों को पूरा करना चाहता है. किस तरह अपनी बेटी को तिरस्कृत देखकर उसकी आंखों से आंसू बहने लगते हैं और बेबस होकर देखने के अलावा कोई चारा नहीं रहता है. बेटी को स्टार बनाने के लिए फन्ने, राजकुमार राव की मदद लेता है. दोनों मिलकर पैसों के लिए ऐश्वर्या रॉय को किडनैप कर लेते हैं. ऐश्वर्या नामचीन गायिका के किरदार में हैं. किडनैपिंग के बाद ऐश्वर्या और राजकुमार राव के बीच प्रेम भी हो जाता है. लेकिन क्या उनका बेटी को लता मंगेशकर बनाने का सपना पूरा हो पाता है ये फिल्म देखकर ही पता चल पाएगा.

(इनपुट आईएनएस)

 

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.