नई दिल्ली: तीन बच्चों के पिता अभिनेता अनिल कपूर का मानना है कि पितृत्व एक लगातार विकसित होने वाली प्रक्रिया है। उन्होंने अपने तीनों बच्चों- सोनम, रिया और हर्षवर्धन को सबसे बड़ा पाठ पढ़ाने के सवाल पर अनिल ने कहा, “पितृत्व का मतलब बच्चों को सिर्फ सिखाना या पाठ पढ़ाना नहीं है। यह एक लगातार विकसित होने वाली प्रक्रिया है। यह भी पढ़े:सलमान की ‘सुल्तान’ का सफर पंजाब में शुरू

उनका विश्वास है कि यह पूरी फिल्मी दुनिया ही उनके लिए एक परिवार की तरह है, जहां उन्हें कई लोगों से समर्थन मिला है और उन्होंने कई लोगों को समर्थन दिया है और यह सिलसिला इसी तरह चलता रहेगा।

अनिल ने ‘पीएंडजी शिक्षा’ के कार्यक्रम में यह बात कही। उन्होंने कहा, “भारत एक ऐसे स्तर पर है, जहां सभी मुद्दे अपनी वास्तविक रूप में घूम रहे हैं। इन मुद्दों को व्यक्तिगत स्तर पर सुलझाया नहीं जा सकता, लेकिन देश के लोगों और शिक्षा के प्रयासों से इन्हें सुलझाया जा सकता है। मैं देश की भलाई के लिए हर तरह से मदद करने का इच्छुक हूं।”