भोपाल: खेल जगत में नशीली दवाओं के इस्तेमाल पर रोक के लिए मैदान में उतरने से पहले खिलाड़ियों का डोप टेस्ट कराया जाता है. इसी तरह फिल्म अभिनेताओं का शूटिंग से पहले डोप टेस्ट कराया जाना चाहिए. ये मांग मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने की है. इस संदर्भ में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र भी लिखा है. मंत्री सारंग ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री को लिखे गए पत्र में कहा है कि जिस तरह खेल जगत में ड्रग्स के बढ़ते चलन को रोकने के लिए डोप टेस्ट कराया जाता है, ठीक उसी तरह फिल्म जगत में बढ़ते ड्रग्स के प्रचलन और उसकी रोकथाम को ध्यान में रखते हुए शूटिंग से पहले फिल्म स्टार और फिल्म उद्योग से जुड़े लोगों का डोप टेस्ट कराया जाए. Also Read - Sandalwood drug case: रागिनी द्विवेदी ने ड्रग टेस्ट से बचने के लिए यूरिन में मिलाया पानी, ऐसे पकड़ी गई

मंत्री सारंग ने अपने पत्र में लिखा है कि बड़ी संख्या में युवाओं के आइकन फिल्म अभिनेता है. यही कारण है कि युवा अपने पसंदीदा सितारे की स्टाइल, पहनावा आदि की सिर्फ नकल ही नहीं करते, बल्कि उनके जैसी लाइफस्टाइल भी अपनाने लगे हैं. सुशांत सिंह मामले में भी ड्रग्स से जुड़े होने की खबरें आ रही हैं. Also Read - डोनाल्ड ट्रंप प्रेस को कर रहे थे संबोधित, तभी White House के बाहर चली गोलियां

उनका कहना है कि फिल्म अभिनेताओं में ड्रग्स का प्रचलन बढ़ने से देश के युवाओं पर भी बुरा असर पड़ रहा है और वे भी इससे प्रभावित होकर ड्रग्स की ओर आकर्षित हो रहे हैं, इसलिए जरूरी हो जाता है कि खिलाड़ियों की तरह फिल्म अभिनेताओं का भी डोप टेस्ट किए जाने के लिए नियम बनाए जाएं और नशे से संबंधित किसी भी तरह की पार्टी को पूरी तरह से प्रतिबंधित किया जाए. Also Read - बॉलीवुड अभिनेत्री दिव्या चौकसे की कैंसर से हुई मौत, बहन ने पोस्ट शेयर की दी जानकारी

इतना ही नहीं, समय-समय पर फिल्म स्टार या इस जगत से जुड़े लोगों का राष्ट्रीय एजेसियों द्वारा डोप टेस्ट लिया जाए और दोषी पाए जाने पर संबंधित पर दो साल की सजा से लेकर फिल्म इंडस्ट्रीज में काम करने वालों पर आजीवन पाबंदी तक की सजा का प्रावधान किया जाए.