भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव (आईएफएफआई) की भारतीय पैनोरमा जूरी कई दिनों की देरी के बाद अंतत: फिल्म ‘एस दुर्गा’ को सोमवार शाम को देखेगी. जूरी के एक सदस्य ने रविवार को इस बात की जानकारी दी. जूरी सदस्य ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “हमें आईएफएफआई द्वारा सूचना दी गई है कि फिल्म की स्क्रीनिग सोमवार शाम 6 बजे की जाएगी.” 10 सदस्यीय जूरी के लिए स्क्रीनिंग पणजी के महोत्सव स्थल पर आयोजित की जाएगी. Also Read - IFFI में दिखाई जाएगी सुशांत सिंह राजपूत की 'छिछोरे' और तापसी पन्नू की ‘सांड की आंख’

मुंबई की निर्देशक और पटकथा लेखक रुचि नारायण ने भी जूरी के लिए फिल्म की स्क्रीनिंग किए जाने की खबर की पुष्टि कर दी है. उन्होंने आईएएनएस को बताया, “फिल्म की स्क्रीनिंग के विवरण की सूचना आईएफएफआई द्वारा दी गई है.” Also Read - गोवा में इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की तैयारी शुरू, दिखाई जाएंगी विनोद खन्ना की बेहतरीन फिल्में

सनल कुमार शशिधरन की फिल्म को भारत के 48वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव की निर्धारित स्क्रीनिंग से रोक दिया गया था. इस फिल्म के साथ एक अन्य फिल्म ‘न्यूड’ की स्क्रीनिग पर भी रोक लगा दी गई थी जिसके बाद विवाद बढ़ गया था Also Read - Akshay Kumar embarrassed Amitabh Bachchan at IFFI | IFFI अवार्ड: अक्षय कुमार ने अमिताभ को एक मिनट के लिए रोका, शर्मिंदा हुए बिग बी ने कहा- ऐसा नहीं होता

महोत्सव जूरी ने इन दोनों फिल्मों को दिखाए जाने की मंजूरी दी थी. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा इन्हे दिखाने से इनकार के बाद जूरी के प्रमुख सुजोय घोष समेत तीन सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया था, जबकि छह सदस्यों ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय को लिखकर इस कदम पर चिंता जताई थी.

शशिधरन द्वारा केरल उच्च न्यायालय में याचिका दायर करने के बाद अदालत ने आईएफएफआई को निर्देश दिया कि सेंसर किया हुआ संस्करण जूरी को दिखाने के बाद फिल्म की स्क्रीनिंग की जाए.

उच्च न्यायालय की पीठ ने सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा इस निर्देश पर रोक लगाने वाली अपील को शुक्रवार को खारिज कर दिया था.