सरकार ने अभिनेता गजेंद्र चौहान को उनके मात्र एक पैरा वाले उस सीवी के आधार पर प्रतिष्ठित भारतीय फिल्म एंड टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) का अध्यक्ष चुन लिया।  जिसमें मशहूर धारावाहिक ‘महाभारत’ में युधिष्ठिर की भूमिका का उल्लेख था। आरटीआई के जवाब में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से मिली फाइल नोटिंग की कॉपी को देखने पर यह जानकारी मिली है।Also Read - राहुल और प्रियंका गांधी से मिले सचिन पायलट, पंजाब के बाद अब राजस्थान पर टिकीं सबकी निगाहें

ज्ञात हो कि FTII चेयरमैन चुने जाने के बाद से ही वहां के स्टूडेंट्स गजेंद्र सिंह का विरोध कर उन्होंने केंद्र सरकार से पोस्ट से हटाने की मांग कर रहे हैं। Also Read - राहुल-प्रियंका मेरे बच्चों की तरह, इन्हें अनुभव की कमी, सिद्धू के खिलाफ प्रत्याशी उतारूंगा: अमरिंदर सिंह

इस नोटिंग में कहा गया है, गजेंद्र चौहान वह अभिनेता हैं जो ‘महाभारत’ (टीवी धारावाहिक) में सबसे अग्रज पांडव युद्धिष्ठिर की भूमिका के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने करीब 150 फिल्मों और 600 से अधिक टीवी धारावाहिकों में काम किया। Also Read - मुंबई: हाईकोर्ट ने राहुल गांधी को दी राहत, 7 साल पहले महात्मा गांधी की हत्या और RSS को लेकर दिया था बयान

गौरतलब है कि आवेदनकर्ता ने गजेंद्र चौहान की शैक्षणिक और पेशवेर योग्यता के बारे में जानकारी मांगी थी, जिनको आधार बनाकर उन्हें एफटीआईआई का अध्यक्ष चुना गया। एनडीए सरकार ने बीजेपी के साथ लंबे समय से जुड़े चौहान को एफटीआईआई सोसायटी का अध्यक्ष एंव संचालन परिषद का चेयरमैन नियुक्त किया है।

चौंकानेवाली बात यह है कि मिनिस्ट्री के 281 पेज के रिकॉर्ड में उन सभी बड़े लोगों के बायोडाटा की डिटेल है, जो एफटीआईआई चेयरमैन पद के लिए प्रपोज्ड नामों में थे, लेकिन चौहान की योग्यता से जुड़ा सब्जेक्ट केवल एक पैरा में दिया हुआ है।

चौहान की नियुक्ति से जुड़ी फाइल नोटिंग में दिखता है कि अमिताभ बच्चन, रजनीकांत, विधु विनोद चोपड़ा, राजू हिरानी, जया बच्चन, अदूर गोपालकृष्णन, रमेश सिप्पी, गोविंद निहलानी और आमिर खान जैसे बड़े नामों पर इस पद के लिए विचार किया गया था। एफटीआईआई की ओर से 2014 में इन नामों का प्रस्ताव दिया गया था।

चौहान के बारे में एक पैरा की फाइल नोटिंग के अलावा मंत्रालय ने उनके कामों अथवा उनके सीवी को लेकर कोई दूसरा ब्योरा प्रदान नहीं किया। साथ ही मंत्रालय इस बात पर भी चुप रहा था कि चौहान को एफटीआईआई की ओर से प्रस्तावित बड़े नामों के मुकाबले तरजीह क्यों दी गई।

अनुपम खेर, ऋषि कपूर, रणबीर कपूर, सलमान खान सहित हिन्दी सिनेमा के कई बड़े नामों ने चौहान की नियुक्ति के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों का समर्थन किया है। छात्र 40 दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। इन्हें अब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का भी समर्थन भी मिल गया है। इस जानकारी के सामने आने के बाद यह मामला फिर तूल पकड़ता दिखाई दे रहा है।