दर्शकों के दिलों पर दशकों से राज कर रहीं ‘ड्रीम गर्ल’ हेमा मालिनी आज भी राजनीति के साथ-साथ अभिनय में सक्रिय हैं. उन्होंने अपनी खूबसूरती, अभिनय, रोमांस और चुलबुले मिजाज से हिंदी सिनेमा पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है. हेमा का जन्‍म 16 अक्टूबर 1948 को तमिलनाडु के आमानकुंडी में हुआ था. उनकी मां का नाम जया चक्रवर्ती और पिता का नाम वीएसआर चक्रवर्ती था. हेमा के जन्म से पहले उनकी मां इतनी निश्चिंत थीं और उन्होंने पहले ही अपने होने वाली बेटी का नाम ‘हेमा मालिनी’ सोच लिया था. हेमा मालिनी की मां फिल्म निर्माता थीं. घर में फिल्‍मी माहौल होने के कारण इनका झुकाव शुरू से ही फिल्‍मों की ओर था. उन्‍होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा चेन्‍नई से की थी. वह पढ़ाई में भी काफी होशियार थीं.

Lal kaptaan: आसान नहीं था सैफ अली खान को नागा बनाना, जटाएं बनाने में हो गई थी हालत खराब 

लाल रंग की बिकिनी में दिशा पाटनी की कातिलाना तस्वीर, देखकर फैंस के दिलों से उठने लगा धुआं

इतिहास उनका पसंदीदा विषय रहा है. वह 10वीं कक्षा की परीक्षा नहीं दे पाईं, क्योंकि उन्हें लगातार अभिनय के प्रस्ताव मिल रहे थे. उम्र मात्र चौदह साल थी, लेकिन हेमा के दरवाजे पर फिल्म निर्माता तभी से दस्तक देने लगे थे.कई सुपरहिट फिल्मों में काम कर चुकी हेमा मालिनी को करियर के शुरुआती दिनों में तमिल निर्देशक श्रीधर ने अपनी फिल्म में काम देने से इंकार कर दिया था. तमिल निर्देशक ने उन्हें स्टार अपील नहीं होने की बात कहकर फिल्म में काम देने से इंकार कर दिया था.

हेमा मालिनी ने वर्ष 1968 में फिल्‍म ‘सपनों का सौदागर’ से अपना डेब्यू किया था. ‘सपनों के सौदागर’ बॉक्‍स’ ऑफिस पर सफल नहीं रही लेकिन दर्शकों ने हेमा मालिनी को एक अभिनेत्री के तौर पर पसंद किया.वर्ष 1970 में आई फिल्‍म ‘जॉनी मेरा नाम’ से हेमा मालिनी को अपनी पहली सफलता हासिल हुई. इस फिल्‍म में उन्‍होंने देवानंद और उनकी जोड़ी के खासा पसंद किया. वहीं हेमा मालिनी को सफलता के शिखर तक पहुंचाने में निर्माता-निर्देश‍क रमेश सिप्‍पी की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही. वर्ष 1971 में आई फिल्‍म ‘अंदाज’ से उन्‍हें पहला बड़ा ब्रेक मिला. इस फिल्‍म में उनके निभाये गये किरदार को आज भी याद किया जाता है. फिल्‍म में उनके आपोजिट राजेश खन्‍ना थे.

इसके बाद रमेश सिप्‍पी की ही वर्ष 1972 में आई फिल्‍म ‘सीता और गीता’ उनके लिए मील का पत्‍थर साबित हुई. इस फिल्म में दमदार अभिनय केलिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया. दर्शकों ने बड़े पर्दे पर हेमा मालिनी और धर्मेंद्र की जोड़ी को खासा पसंद किया.सत्तर के दशक में हेमा मालिनी पर आरोप लगने लगे कि वह केवल ग्लैमर वाले किरदार ही निभा सकती है लेकिन उन्होंने खुशबू 1975 किनारा 1977 और मीरा 1979 जैसी फिल्मों में संजीदा किरदार निभाकर अपने आलोचकों का मुंह हमेशा के लिए बंद कर दिया. इस दौरान हेमा मालिनी के सौंदर्य और अभिनय का जलवा छाया हुआ था. इसी को देखते हुए निर्माता प्रमोद चक्रवर्ती ने उन्हें लेकर फिल्म ‘ड्रीम गर्ल’ का निर्माण तक कर दिया.हेमा और धमेन्द्र की यह जोड़ी इतनी अधिक पसंद की गई कि धर्मेन्द्र की रील लाइफ की ‘ड्रीम गर्ल’ हेमामालिनी उनके रीयल लाइफ की ड्रीम गर्ल बन गईं.


हेमा ने वर्ष 1981 में धर्मेंद्र से शादी की थी.हेमा ने अपनी किताब में इसका जिक्र किया है कि पहले हेमा ने कभी भी धर्मेंद्र से शादी करने के बारे में नहीं सोचा था. हालांकि एक दिन ये बात आगे बढ़ी और दोनों ने शादी का फैसला किया. 21 अगस्त 1979 को धर्मेंद्र ने धर्म और नाम परिवर्तन करके हेमा से निकाह कर लिया, ताकि उन्हें अपनी पहली पत्नी प्रकाश कौर को तलाक़ ना देना पड़े.हेमा मालिनी एक बेहतरीन अभिनेत्री के साथ-साथ एक शानदार डांसर भी है. हेमा मालिनी को फिल्मों में उल्लेखनीय योगदान के देने लिए वर्ष 2000 में वह पद्मश्री सम्मान से भी सम्मानित की गयीं. उन्‍होंने अपने करियर में लगभग 150 से ज्‍यादा फिल्‍मों में काम किया. हेमा मालिनी फिलहाल राजनीति में सक्रिय हैं. वे मथुरा से लोकसभा की सांसद हैं.

 

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.