नई दिल्लीः 27 दिसंबर को बॉलीवुड के भाईजान कहे जाने वाले अपनी जिंदगी के 54 साल पूरे कर लेंगे. सलमान खान एक ऐसे अभिनेता हैं जिनके अकेले दम पर बॉलीवुड ने एक नया मुकाम हांसिलक किया है. अगर हम आज के सलमान खान को देखें तो हमें ऐसा लगेगा कि इनकी लाइफ बहुत आसान हैं और इन्हें किसी भी परेशानी के बिना नई नई मूवी ऑफर होती रहती हैं. जी हां आज तो ऐसा ही है लेकिन आपको बता दें कि करियर के शुरुआती दिनों में सलमान खान की जिंदगी इस तरह आसान नहीं थी. सलमान आज भारतयी फिल्म जगत के लिए भले ही मनी मेकिंग मशीन हों लेकिन पहले ऐसा नहीं था.

पिता सलीम खान बॉलीवुड के एक बड़े स्क्रिप्ट राइटर थे. शायद ही कोई ऐसा अभिनेता हो जिनके मूवी उन्होंने न लिखी हो लेकिन बावजूद इसके सलमान खान को कई महीनों तक डेब्यू करने के लिए पसीना बहाना पड़ा था. कई मुश्किलों के बाद उन्हें बीवी हो तो ऐसी मूवी में काम करने का मौका मिला. लेकिन सूरज बड़जात्या की फिल्म मैने प्यार किया सलमान की पहली ऐसी मूवी थी जिसने व्यवसायिक रूप से सलमान को अच्छी सलफलता दी.

मैनें प्यार किया की सलफलता के लिए सलमान खान को फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ नवीन पुरुष अभिनेता के पुरस्कार से भी नवाजा गया. आपको बता दें कि मैंने प्यार किया फिल्म सलमान खान के बर्थ डे के ठीक दो दिन बाद अपने 30 साल का सफर पूरा करेगी. यह फिल्म सूरज बड़जात्या की भी बतौर निर्देशक पहली फिल्म थी.

इस मामले में खानों के खान ‘सुल्तान’ के सामने चारों खाने चित हुए ‘मिस्टर परफेक्शनिस्ट’

मैने प्यार किया के लिए कई एक्टर्स ने ऑडीशन दिए लेकिन एक एक कर के सब फेल हो गए. सूरज बड़जात्या ने अपनी पहली फिल्म के लिए यह ठान रखा था कि किसी नए चेहरे को इसमें मौका दिया जाएगा. इसके लिए सबसे पहले दीपक तिजोरी को चुना गया लेकिन वो उम्मीदों पर खरे नहीं उतर सके. इसके बाद विलेन के रोल के लिए महोहनीश बहल को चुना गया.

विंदु दारा सिंह को नाम लीड एक्टर के लिए चुना गया लेकिन एक दिन की शूटिंग के बाद उन्हें भी हटा दिया गया. इसके जाने माने एक्ट यूसुफ खान के बेटे फराज खान को शामिल किया गया लेकिन शूटिंग के दौरान उन्हें पीलिया हो गया और उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया. इसके बाद शबाना ने प्रेम रोल के लिए सलमान का नाम सजेस्ट किया. लेकिन यह सबसे आश्चर्य की बात है कि सलमान को यह आज भी नहीं पता कि उन्हें इस कामयाबी की पहली सीढ़ी किसके दम पर मिली थी.