भिवानी: फिल्मों सहित समाज के विभिन्न क्षेत्रों में चल रहे ‘मी टू अभियान’ के बीच अभिनेता एवं आशिकी फिल्म से चर्चित हुए राहुल राय ने सोमवार को कहा कि कि केवल हीरोइन ही नहीं बल्कि हीरो को भी फिल्म उद्योग में समझौता करना पड़ता है. उन्होंने ऐसे मामलों में आरोपों की जांच के लिए एक समिति बनाने का भी सुझाव दिया. Also Read - SSR Case: Me Too के आरोप से बिखर गए थे सुशांत, 4 दिन तक सोए नहीं थे, डायरेक्टर ने किए कई खुलासे

Also Read - सोना मोहपात्रा की मोनोकनी वाली तस्वीरों पर लोगों ने कहा- भड़काऊ कपड़े पहनों और फिर #MeToo के लिए चिल्लाओ

भिवानी में एक शो में पहुंचे राय ने यह बात कही. उन्होंने कहा कि गत आठ-नौ साल से रिएलिटी शो एवं सोशल मीडिया के जरिये प्रतिभाएं निकलकर आई हैं. फिल्म उद्योग में खुद को स्थापित करने के लिए समझौता किए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘ केवल हीरोइनें ही नहीं हीरो को भी समझौता करना पड़ता है. यह कड़वी सच्चाई रही है.’’ Also Read - #Metoo में फसें अनु मालिक की जगह अब ये सिंगर करेंगे इंडियन आइडल 11 को जज  

उन्होंने कहा कि अगर फिल्म उद्योग में कामयाब होना है तो ‘‘शॉर्टकट’’ नहीं बल्कि मेहनत को तवज्जो देनी होगी. ‘‘मी टू अभियान’’ पर उन्होंने कहा कि ऐसा होता आया है. ‘‘ नब्बे (के दशक) से पहले भी ऐसी बातें होती थी. मेरी राय में एक कमेटी होनी चाहिए जो कि तय करे कि ऐसा हुआ या नहीं.’’

#MeToo: सैफ अली खान ने कहा- अगर किसी ने मेरी बेटी सारा को हाथ लगाया तो मैं उसका मुंह तोड़ दूंगा

उन्होंने कहा कि बॉलीवुड ही नहीं हालीवुड में भी ऐसा होता रहा है. कैसे स्थिति को संभालना है, उसके लिए कमेटी होनी ही चाहिए. आरोपों की जांच जरूरी है. उन्होंने कहा कि ऐसी चीजें नहीं होनी चाहिए. केवल फिल्म इंडस्ट्री मे ही नहीं, हर उद्योग मे ऐसा है जो दुर्भागयपूर्ण है.

चेतन भगत ने #MeeToo को बताया ‘गंदा कैंपेन’..कहा, ‘Kiss You’ का मैसेज भेजती थी महिला

बता दें कि अभिनेत्री तनुश्री दत्‍ता पर अभिनेता नाना पाटेकर के खिलाफ यौन उत्‍पीड़न की शिकायत के बाद पूरे देश में मीटू अभियान जोर पकड़ चुका है. लेकिन अब तक जितनी शिकायतें आई थीं, वो महिलाओं ने पुरुषों के खिलाफ लगाए हैं. यह पहला मामला है जब किसी ने बॉलीवुड में पुरुषों के शारीरिक शोषण का खुलकर इल्‍जाम लगाया है.