बॉलीवुड एक्टर ऋतिक रोशन किरदार में जान फूंकने के लिए कुछ भी कर सकते हैं. इन तस्वीरों से देखकर तो यही लगता है जिसमें वे कंधे पर गमछा लटकाए. साइकिल चलाते हुए, सड़कों पर पापड़ बेचते हुए नज़र आ रहे हैं. धूप में घूम-घूमकर मुरझाया उनका चेहरा कुछ कर गुजरने की चाहत को मात नहीं दे पा रहा है. दरअसल, ऋतिक जल्द ही फिल्म ‘सुपर 30’ में नजर आने वाले हैं और उसकी शूटिंग में बिजी हैं. इस फिल्म में वे आनंद कुमार की भूमिका निभा रहे हैं. आनंद जैसा लुक पाने के लिए ऋतिक ने काफी मेहनत की है.

हाल ही में जब ऋतिक की बनारस में शूटिंग की तस्वीरे वायरल हुईं थी जिन्हें देखकर खुद आनंद हैरान हो गए थे. इसके बाद उन्होंने अपनी पोस्ट में भी लिखा था, ‘विकास बहल ने फिल्म शुरू करने बस कुछ समय पहले मुझे ऋतिक रोशन का लुक दिखाया था, जिसे देखने के बाद मैं पूरी तरह से दंग रह गया था.’आनंद कुमार पर बनने वाली इस फिल्म को विकास बहल डायरेक्ट कर रहे हैं. फैंटम फिल्म्स इसे प्रोड्यूस कर रही है.इस फिल्म में ऋतिक के साथ छोटे पर्दे की एक्ट्रेस मृणल ठाकुर नजर आएंगी.

आनंद ने ऋतिक का लुक देखकर कहा..

आनंद कुमार ने शेयर किए गए अपने फेसबुक पोस्‍ट में लिखा था, ‘एक कहावत बड़ी मशहूर है कि हजारों मील की यात्रा की शुरुआत सिर्फ एक कदम से होती है. लेकिन मैं अक्सर अपने स्टूडेंट्स से कहता हूं कि हजारों मील की यात्रा की शुरुआत के लिए पहला कदम उचित दिशा बढ़ना सबसे जरुरी है. शूटिंग शुरू होने के पहले विकास बहल ने मुझे ऋतिक जी के पहले लुक को भेजा तब मैं देखकर दंग रहा गया. लगा कि मैं अपने-आप को कई साल पीछे स्टूडेंट लाइफ में देख रहा हूँ, और आगे उन्होंने मुझसे कहा कि वे अभी फिल्म की शूटिंग शुरू करने जा रहें है, आपके आशीर्वाद की जरुरत है. मैंने कहा कि मैं आपको क्या आशीर्वाद दे सकता हूँ. हाँ, मेरी शुभकामनायें हमेशा आपके साथ हैं.’

Image may contain: 1 person, beard and closeup

कौन हैं गरीबों के मसीहा आनंद कुमार?

देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थान आईआईटी में जाने का सपना हर इंजीनियरिंग स्टूडेंट का होता है लेकिन इस सपने को हकीकत में तब्दील करना इतना आसान नहीं होता. लेकिन हमारे देश में जब आनंद कुमार जैसे लोग सहायता के लिए मौजूद हों तो कुछ नामुमकिन भी नहीं होता. बिहार के रहने वाले आनंद, सुविधाओं से वंचित परिवारों के तीस बच्चों को हर साल अपनी कोचिंग में मुफ्त में आईआईटी की कोचिंग देते हैं. सिर्फ इतना ही नहीं इन बच्चों को अपने घर पर रखते हैं और उनकी मां उनके लिए भोजन बनाती हैं.