मुंबई: अभिनेत्री हुमा कुरैशी का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग का अभ्यास करना एक लग्जरी है और इस वक्त हमारा उनके बारे में सोचना जरूरी है, जिनके पास यह लग्जरी नहीं है. हुमा ने कहा, हमें उन लोगों के बारे में सोचने की जरूरत है, जिनके पास रहने के लिए या तो एक छोटा सा घर है या वह भी नहीं है और इस मुश्किल घड़ी में वे किस तरह से अपना गुजर बसर कर रहे हैं. Also Read - लॉकडाउन में बुर्जुग पिता कर रहे इस भारतीय विकेटकीपर की प्रैक्टिस में मदद

वह आगे कहती हैं, सोशल डिस्टेंसिंग एक लग्जरी है, कुछ ऐसा जो आपके और हमारे पास है. ऐसे कई सारे लोग हैं, जिनके पास यह नहीं है और हमें उनके बारे में वाकई में सोचने की जरूरत है. Also Read - Unlock 1.0 : सोमवार से खुलेंगे ऑफिस, बदल जाएगी वॉशरूम से लेकर कैंटीन की व्यवस्था

  Also Read - यूपी में एक दिन में सबसे ज्यादा 15 कोरोना मरीजों की मौत, अब तक इतने हजार संक्रमित

View this post on Instagram

 

They are saying Saturday is the first Roza !! Ramadan is almost here !! Praying for everyone in these difficult times … Shared compassion, service, and support for one another is the need of the hour. May god bless us all ! And a special dua for all those fighting for us at the frontlines of this pandemic ❤️🙏🏻 Everyone please stay at home and stay safe ! Pray from Home ! #prayer #love #compassion #love #ramadan #dua #socialdistancing #quarantine #stayhome #oldphoto #throwback

A post shared by Huma S Qureshi (@iamhumaq) on

अभिनेत्री ने हाल ही में इस विषय पर भी बात की कि सड़कों पर रहने वाले बच्चों के लिए चिंता करना कितना महत्वपूर्ण है, जिन पर जारी इस महामारी में खतरा बहुत ज्यादा है. हुमा ने हाल ही में बच्चों की सुरक्षा के लिए एक गैर-लाभकारी संगठन और उनके 21 दिवसीय अभियान की ओर मदद का हाथ बढ़ाया, जिसका लक्ष्य पूरे भारत में सड़कों पर रहने वाले बीस लाख से अधिक बच्चों पर ध्यान केंद्रित करना था. वह इस एनजीओ द्वारा शुरू किए गए एक टेलीथॉन में भी शामिल हुई थीं, जिसका नाम ‘मेकिंग द इनविजिबल विजिबल’ था.