इरफान खान की बीमारी की खबर से बॉलीवुड में उदासी की लहर है. शुक्रवार को खुद इरफान ने ट्वीट कर जानकारी दी कि वे न्‍यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित हैं. और इलाज के लिए विदेश जाने की तैयारी कर रहे हैं. इससे पहले इरफान खान ने ट्व‍िटर पर लिखा था कि कई बार आप सुबह उठते हैं और आपकी जिंदगी हिल चुकी होती है. पिछले 15 दिनों से मेरी जिंदगी एक सस्‍पेंस स्‍टोरी बनी हुई है. मुझे नहीं पता था कि दुर्लभ कहानियों की खोज मुझे गंभीर बीमारी तक पहुंचा देगा. मैंने कभी हार नहीं माना और अपनी पसंद के लिए हमेशा लड़ता रहा हूं और आगे भी ऐसा ही करता रहूंगा. इरफान की बीमारी की खबर के बाद बॉलीवुड में सभी लोग उनकी जल्द ठीक होने की कामना कर रहे हैं.Also Read - Lancet Study: भारत में पिछले साल कैंसर के करीब 62,000 नये मामलों के लिए शराब जिम्मेदार- अध्ययन

Also Read - इरफान खान के बेटे बाबिल खान ने बताया इस एक्ट्रेस को बॉलीवुड की अगली स्टार, अनुष्का शर्मा की 'भाभी' से हुए इम्प्रेस

अभिनेत्री कीर्ति कुल्हारी ने इरफान खान के लिए ट्वीट करते हुए कहा, प्रेम और सकारात्मकता का भार तुम्हारे आसपास है इरफान. आप फाइटर हो. बहुत जल्दी मिलने की कामना करती हूं. हम आपको हर क्षण मिस करेंगे. Also Read - अस्पताल जाने से पहले लगातार...बेतहाशा कुछ ढूंढ रहे थे करण जौहर के पापा, आखिर क्या था वो? और फिर...

वहीं अभिनेत्री नंदिता दास ने भी ट्वीट करते हुए कहा, इरफान आप कीमती हो. हम आपको हमेशा मिस करेंगे. जल्दी ठीक हो जाओ

कॉमेडियन सुनील ग्रोवर ने लिखा, आपके जल्द ठीक होने की कामना करता हूं. आप जल्दी ठीक हो जाओ सर

अभिनेता राजपाल यादव ने भी ट्वीट करते हुए लिखा, हमारा प्यार और दुआएं आपके साथ हैं. आप जल्दी से ठीक हो जाओ

क्‍या है न्‍यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर्स
न्‍यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर्स को NETs भी कहा जाता है. ये रेयर ट्यूमर्स कहलाते हैं. इस तरह की बीमारी को गूगल पर सर्च करने पर ज्‍यादातर कैंसर की सूचना देने वाले पेज खुलते हैं. कैंसर रिसर्चयूके डॉट ओआरजी के मुताबिक, ये ट्यूमर न्‍यूरोएंडोक्राइन सिस्‍टम में डेवलेप होता है. ये ट्यूमर कई तरह के हो सकते हैं. किसी को किस तरह का ट्यूमर है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि कहां के सेल्‍स ज्‍यादा प्रभावित हैं.ज्‍यादातर न्‍यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर्स कई सालों में डेवलेप होते हैं. ज्‍यादातर लोगों को कई सालों तक इसके लक्षण तक नजर नहीं आ पाते. ज्‍यादातर मामलों में ऐसा होता है कि इस ट्यूमर का पता चलने तक ये शरीर के दूसरे भागों में फैल जाते हैं. ये ट्यूमर कैंसरस और नॉन-कैंसरस दोनों प्रकार के होते हैं.