बॉलीवुड में गजल के किंग के नाम से जगजीत सिंह को जाना जाता था। गीत में वो बात थी की लोग घटों आज भी उनके गाए हुए गाने को सुनते हैं। आज के दिन जगजीत सिंह का जन्म हुआ था। जगजीत सिंह के जीवन से जुड़ी 8 ऐसी बाते जो आप को हैरान कर देगी। यह भी पढ़ें : जगजीत सिंह में था रूह में उतरने का हुनर Also Read - मुंबई में UP के सीएम योगी से आज मिलेंगी बॉलीवुड की कई हस्‍तियां, कल अक्षय कुमार ने की थी मुलाकात

Also Read - उर्मिला मांतोंडकर शिवसेना में हुईं शामिल, कांग्रेस से लड़ चुकी हैं लोकसभा चुनाव

1- जगजीत सिंह का जन्म 08 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर में हुआ था, जगजीत सिंह के पिताजी उन्हें बचपन में जगजीवन नाम से बुलाया करते थे लेकिन पिता के कहने पर उन्होंने बदलकर बाद में जगजीत सिंह रख लिया। Also Read - मुश्किल में इस एक्टर की जिंदगी, कारगिल में शूटिंग के दौरान आया ब्रेन स्ट्रोक, ICU में भर्ती

2 – जगजीत सिंह ने अपनी पढ़ाई सरकारी स्कूल से शुरू की और खालसा कॉलेज से पढ़ाई की। जगजीत सिंह के पिता चाहतें थे की उनका बेटा एक कामयाब इंजीनियर बने।

3 – जगजीत सिंह का बचपन के दिनों से ही संगीत के प्रति एक अनोखा लगाव था और आगे चलकर उन्होंने संगीत की दुनिया में एक नया उन्होंने संगीत की शिक्षा उस्ताद जमाल खान और पंडित छगनलाल शर्मा से हासिल की।

5- संगीत की दुनिया में नया मुकाम पाने और अपने ख्वाब को पूरा करने के लिए मार्च 1965 में जगजीत सिंह अपने परिवार को बिना बताए मुंबई चले आए थे। मुंबई में लेकिन उनकी राह आसान नही थी और स्ट्रगल शुरू कर दिया था। लेकिन इसी मुंबई में उन्हें अपना हमसफर भी मिला जब मुंबई में जगजीत सिंह की मुलाकात एक बंगाली महिला चित्रा दत्ता से हुई और दोनों 1969 में शादी के बंधन में बंध गए।

6 – जगजीत सिंह ने जब गाना शुरू किया तो फिर कामयाबी ने आगे बढकर उनके कदम को चूमा। अगर जगजीत सिंह के गानों पर एक नजर डाले तो गानों की एक लंबी फेहरिस्त है लेकिन उसमें से आज भी होठो से छू लो तुम मेरा गीत अमर कर दो, झुकी झुकी सी नजर, तुम इतना क्यों मुस्कुरा रहे हो, तुमको देखा ता ये ख्याल आया, ये तेरा घर ये मेरा घर, चिट्ठी ना कोई संदेश, होश वालों को खबर यह सब गाने आज भी लोगों की जुबान पर रहतें हैं।

7- जगजीत सिंह को साल 2003 में भारत सरकार की ओर से पद्मभूषण से सम्मानित किया गया।

8 – अपनी गायकी से करोड़ो दिलों में बसने वाले जगजीत सिंह ने 10 अक्तूबर 2011 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया। लेकिन आज भी उनके गाये हुए गीत ने उन्हें लोगों के दिलों में अमर कर रखा है।