दिग्गज लेखक-गीतकार जावेद अख्तर ने कहा है कि फिल्मकार राजकुमार हिरानी हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री के सबसे सभ्य लोगों में से एक हैं. हिरानी पर एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. अख्तर ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, “मैं फिल्म उद्योग में 1965 में आया था. इतने सालों बाद अगर कोई मुझसे पूछे कि करीब पांच दशकों में आप इस उद्योग में जिन लोगों से मिले, उनमें सबसे सभ्य कौन है, तो शायद पहला नाम मेरे जहन में जो आएगा वह राजू हिरानी का होगा. जी. बी. शॉ ने कहा है, ‘बहुत ज्यादा अच्छा होना भी बहुत खतरनाक है’.”

हफपोस्ट इंडिया के रविवार के लेख के मुताबिक, हिरानी की एक महिला सहयोगी ने कहा है कि फिल्मकार ने ‘संजू’ बनाने के दौरान साल 2018 में मार्च से सितंबर के बीच कई बार उनका यौन शोषण किया. 56 वर्षीय हिरानी ने इन आरोपों से इनकार किया है.

हिरानी का समर्थन करने वाले अख्तर पहले नहीं हैं. शरमन जोशी, दिया मिर्जा और अरशद वारसी उनके समर्थन में सामने आए हैं और कहा है कि जल्दबाजी में किसी निष्कर्ष पर पहुंचना और एकाएक एक व्यक्ति को अलग तरह से देखना गलत होगा.

क्या हुआ था उस दिन?
महिला का कहना है कि 9 अप्रैल, 2018 को निर्देशक ने पहले उस पर यौनिक टिप्पणी की और बाद में अपने घर के कार्यालय में उसका यौन उत्पीड़न किया. हफपोस्ट इंडिया में महिला ने 9 अप्रैल को चोपड़ा को भेजे गए मेल के बारे में लिखा है. उसमें कहा गया है, ”मुझे याद है कि उस दिन मैंने कहा था, ‘सर, यह गलत है. आप के पास सारी शक्तियां है और मैं यहां सिर्फ एक सहायिका हूं.’

महिला ने कहा कि हिरानी उनके लिए पिता जैसे थे. इस ईमेल में चोपड़ा की पत्नी और फिल्म आलोचक अनुपमा, पटकथा लेखक अभिजीत जोशी, फिल्म निर्माता शैली चोपड़ा का भी नाम है. फिल्म आलोचक अनुपमा चोपड़ा ने इसकी पुष्टि की है कि महिला ने अपनी स्थिति उनके साथ साझा की थी और विनोद चोपड़ा फिल्म्स (वीसीएफ) ने तब से यौन उत्पीड़न की शिकायतों को निपटने के लिए एक समिति गठित की है.

(इनपुट आईएनएस से भी)

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.