मुंबई: फिल्म अभिनेता जिमी शेरगिल का कहना है कि वह नंबर वन अभिनेता बनने को लेकर कभी परेशान नहीं होते और उनका पूरा ध्यान अपने काम के लिए हमेशा अपना बेहतर देने पर रहता है. जिमी ने कहा, ‘मुझे याद है कि माचिस की शूटिंग के वक्त मैं एक गुरुद्वारे में गया और कहा कि वाहे गुरु, मैं फिल्म उद्योग में नया हूं और स्टारडम के बारे में कुछ नहीं जानता लेकिन यह पक्के तौर पर कह सकता हूं कि मैं खराब अभिनेता नहीं हूं. मैंने हमेशा यही कहा है. Also Read - मैं निर्दोष हूं, 'विच-हंट' का का शिकार हुई: रिया चक्रवर्ती ने बेल रिट में हाईकोर्ट से कहा

Also Read - फिल्म निर्माता मधु मंटेना का बयान दर्ज कर रही एनसीबी

‘धड़क’ के बाद फिर से धूम मचाने की तैयारी में ईशान-जाह्नवी, देखें सिजलिंग फोटोशूट Also Read - ड्रग्स को लेकर उर्वशी रौतेला बोलीं- अगर ये हमें थोड़ा मज़ा देते हैं तो इसकी...

जिमी ने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि जब भी कोर्इ मेरे बारे में बात करे तब वह सम्मानजनक तरीके से बात करे. जिमी की पहली फिल्म ‘माचिस’ का निर्देशन गुलजार ने किया था और इस फिल्म में उनके अभिनय को आलोचकों ने सराहा था.

लाल ड्रेस में नोरा फतेही ने किया गजब का डांस, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

उन्होंने कहा कि गुलजार साहब से बेहतर स्कूल नहीं मिल सकता. ‘मैं फिल्म निर्माण के हर पहलू को सीखना चाहता हूं. गुलजार साहब ने एक दफा कहा था, ‘यदि फिल्म असफल हो जाती है तो कभी भी निराश ना हों और अगले प्रोजेक्ट पर लग जाएं और खुद को व्यस्त रखें.

विवाद में फंसी संजय दत्त की बायोपिक ‘संजू’, अबू सलेम ने भेजा लीगल नोटिस

उन्होंने कहा कि गुलजार साहब ने यह भी कहा था कि एक अभिनेता के लिए घर में खाली बैठने से ज्यादा बुरा कुछ भी नहीं हो सकता. अभिनेता को हमेशा काम करते रहना चाहिए. जिमी का कहना है कि यह बात उनके दिमाग में बैठ गई है.