नई दिल्ली: देश भर में पिछले कई दिनों से नागरिकता विधेयक, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ प्रदर्शन जारी है. इस विरोध प्रदर्शन में छात्रों, महिलाओं के साथ-साथ पेशेवर लोग भी शामिल हैं. विरोध प्रदर्शन की आवाज़ जहां एक तरफ आम आदमी की गलियों से बुलंद हो रही है वहीं दूसरी तरफ बॉलीवुड के एक हिस्से से भी इस मुद्दे पर ख़िलाफ़त के नारे सुनाई दे रहे हैं. विरोध की आवाज़ों की फेहरिश्त में बॉलीवुड अभिनेता जावेद जाफरी (Jaaved Jaaferi) का भी नाम है. शुरुआती दिनों से जावेद ने इस विधेयक की मुख़ालिफत की है. बी टाउन के इस अभिनेता ने इसी मुद्दे पर अपने ट्रॉल्स को करारा जवाब दिया है.

जावेद ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से यूरोप की एक खबर साझा की जो सीएए के खिलाफ प्रस्ताव के पारित के बारे में था. इस पोस्ट पर एक यूजर ने कमेंट किया ‘आप यूरोप क्यों नहीं जाते? हमें अपने राष्ट्र में गद्दारों की आवश्यकता नहीं है’.

इस कमेंट में जावेद ने जो रिप्लाई दिया वो तेज़ी से वायरल हो गया है. जावेद ने लिखा, “आपका देश? कब ख़रीदा आपने मैम? पिछली बार जब मैंने संविधान को पढ़ा था तो उसमें लोकतंत्र, समानता और असंतोष के अधिकार की बात की गई थी. यदि आपने निजी तौर पर इसमें कोई भी बदलाव किया है तो कृपया करके हमे बताएं”.

यही नहीं इस पोस्ट पर एक और यूज़र ने कमेंट करते हुए लिखा, “ताली मिस्टर जावेद. क्या फर्क पड़ता है? आशा है कि आप जानते हैं कि हम स्वतंत्र, संपूर्ण गणराज्य हैं। भारतीय वही करेंगे जो उनके हित में है और राष्ट्र के हित में हैं”

इसके रिप्लाई में भी जावेद ने जवाब देते हुए लिखा, “यदि भारत में निवेश करने के लिए उन्हें समझाने की कोशिश कर रहे पीएम का सम्मान किया जाता है, तो क्या भारत की अंतर्राष्ट्रीय धारणाएँ इस बात से अधिक महत्वपूर्ण हैं? भारत क्या है और सीएए ने एनआरसी के साथ मिलकर अपनी संवैधानिक बुनियाद को क्या नुकसान पहुंचाया हैं, ये सब जानते हैं”.

ऐसा पहली बार नहीं है कि जब जावेद जाफरी इस मुद्दे पर खुल कर बात कर रहे हैं. इससे पहले भी कई बार उन्होंने विभिन्न मंचों से इस मामले पर अपना विरोध दर्ज कराया है.