मुंबई: अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि वह रानी लक्ष्मीबाई के कारण आजादी के मूल्य को समझती हैं. कंगना ने एक बयान में कहा कि ‘मैं सभी की तरह रानी लक्ष्मीबाई की गाथाओं और पौराणिक बातों को सुनकर बड़ी हुई हूं, लेकिन उस वक्त मैं उनकी जिंदगी की प्रचंडता को नहीं जानती थी. उनकी युवावस्था शत्रुओं से लड़ने और आम लोगों को योद्धा बनाने में बीत गई.’ बता दें कि आज रानी लक्ष्मीबाई की जयंती है.Also Read - 67th National Film Awards LIVE: कंगना बनीं बेस्ट एक्ट्रेस तो रजनीकांत को मिला दादा साहेब फाल्के अवार्ड- Winners List

Also Read - छोटी-मोटी चीजों में Kangana Ranaut का नहीं लगता मन, कुछ Dhaakad करने के लिए तड़पता है दिल जैसे...

‘मणिकर्णिका- द क्वीन ऑफ झांसी’ का पोस्टर जारी… सही मायने में क्वीन दिख रहीं कंगना Also Read - Kangana Ranaut ने किया 'धाकड़' की रिलीज डेट का ऐलान, तहलका मचाने वाला है लुक

कंगना ने कहा कि रानी लक्ष्मीबाई की जिंदगी के बारे में जो चीजें अज्ञात हैं, वह यह है कि उन्होंने गोद लेने व महिला सशक्तिकरण जैसी आज के समय में स्वीकार्य कई चीजों के लिए लड़ाई लड़ी. वह पूर्ण रूप से छुआछूत के खिलाफ थीं और कभी भी जाति व्यवस्था में विश्वास नहीं रखती थीं. वह ब्राह्मण थीं, जो क्षत्रियों की तरह लड़ती थीं. उन्होंने बरगद प्रथा, पर्दा प्रथा, जाति व्यवस्था और छुआछूत के खिलाफ लड़ाई लड़ी. उन्होंने इन सभी चीजों से निरंतर लड़ाई लड़ी और इन पर विजय प्राप्त की.’ उन्होंने कहा कि वह एक दूरद्रष्टा थीं और मैं उनके कारण आजादी का मूल्य अधिक समझती हूं.

कंगना फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई के किरदार में हैं.

कंगना फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई के किरदार में हैं.

बता दें कि राधाकृष्ण जगरलामुदी द्वारा निर्देशित ‘मणिकर्णिका : द क्वीन ऑफ झांसी’ अगले साल 25 जनवरी को रिलीज होगी. फिल्म में कंगना रानी लक्ष्मीबाई का किरदार निभा रही हैं. फिल्म में रानी लक्ष्मीबाई की जिंदगी को चित्रित किया गया है. कंगना उनकी जिंदगी को पर्दे पर साकार करती दिखाई देंगी. फिल्म का पोस्टर काफी पहले ही रिलीज़ हो चुका है. झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने 1857 में अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए थे.