मुंबई: कंगना रनौत ने अपनी फिल्म ‘मणिकर्णिका : द क्वीन ऑफ झांसी’ में काम करने वाले कामगारों के बकाया पैसे को लेकर हुए विवाद पर प्रतिक्रिया दी है. अभिनेत्री ने कहा कि उन्होंने फिल्म निर्माताओं को चेतावनी दी है कि अगर उनकी फिल्म में काम करने वाले मजदूरों के मुद्दे को सुलझाया नहीं गया तो वह फिल्म का प्रचार नहीं करेंगी.

अभिनेत्री ने कहा कि फिल्म उद्योग में मजदूरों और तकनीशियनों को ‘‘कमतर आंका’’ जाता है और उन्हें लेकर इस तरह का रवैया वह बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगी. उन्होंने कहा, ‘‘यह दुखद है. मैंने इस तरह के चलन का हमेशा से विरोध किया है. फिल्म उद्योग में कामगारों और तकनीशियनों को कम आंका जाता है. मुझे नहीं मालूम कि अभिनेताओं को बेवजह तरजीह और अहमियत क्यों दी जाती है. इसी वजह से मैं तकनीशियन बनना चाहती हूं.’’

मलाइका अरोड़ा ने इंस्टाग्राम से हटाया सरनेम ‘खान’, क्या अब कपूर लगाएंगी?

कंगना ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, ‘‘मेरा मानना है कि उन्हें (कामगारों और जूनियर आर्टिस्टों को) कमतर आंका जाता है. मैं लेखन और निर्देशन में हाथ आजमाना चाहती हूं क्योंकि वे फिल्म उद्योग के गुमनाम नायक हैं. अगर ऐसी चीजें होती हैं तो इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.’’

Video: WWE के रिंग में सपना चौधरी के ठुमकों के दीवाने हुए खली, बस! एकटक देखते रहे

गुरुवार को फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इंप्लॉइज ने कहा था कि ‘मणिकर्णिका’ के निर्माताओं ने अब तक कामगारों और जूनियर आर्टिस्टों का डेड़ करोड़ रुपये का बकाया नहीं दिया है. शुक्रवार को निर्माता कमल जैन ने इन आरोपों से इनकार किया और कहा कि सभी कानूनी प्रक्रियाओं पूरी कर ली गयी हैं और सिर्फ एक दुकानदार को छोड़कर सभी के बकायों का भुगतान कर दिया गया है, जो उन्हें फंसा रहा है.

Priyanka And Nick Jonas Wedding: प्रियंका-निक के संगीत समारोह में पहुंचे मुकेश-नीता अंबानी

कंगना ने कहा कि वह हालात से पूरी तरह वाकिफ हैं और उन्हें निर्माताओं ने आश्वस्त किया है कि मामला जल्द सुलझा लिया जायेगा. उन्होंने मुझसे कहा कि जी स्टूडियोज का बहुत अच्छा रुतबा है और यह एक बड़ा स्टूडियो है. हमारी ओर से कोई शिकायत नहीं है. ‘मणिकर्णिका : द क्वीन ऑफ झांसी’ 25 जनवरी को रिलीज होगी.