फिल्म निर्माता करण जौहर ने खुलासा किया है कि होली के त्योहार पर वे रंगों से खेलना क्यों पसंद नहीं करते हैं. एक बयान के अनुसार, स्टार प्लस के कार्यक्रम ‘इंडियाज नेक्स्ट सुपरस्टार्स’ में होली के विशेष कार्यक्रम की शूटिंग करने के दौरान करण ने उन घटनाओं के बारे में बताया, जिनके कारण उन्हें आज भी होली खेलने से डर लगता है.

करण ने कहा, “जब मैं छह या सात साल का था तो होली पर मेरी कॉलोनी के बच्चे मेरे ऊपर सिल्वर रंग डालने के लिए मेरे पीछे भाग रहे थे. खुद को बचाने की कोशिश करते हुए मैं गिर गया और मुझे चोट लग गई. इसके बाद उन बच्चों से मेरी लड़ाई हो गई.”

एक अन्य घटना में अमिताभ बच्चन के घर की घटना बताते हुए उन्होंने कहा, “मुझे अच्छी तरह याद है कि 10 साल की उम्र में अमित जी के घर पर होली खेलने जाता था. एक बार जब मैंने उन्हें बताया कि मैं होली से इतना क्यों डरता हूं.”

उन्होंने बताया, “अभिषेक तभी कमरे से बाहर आए, मुझे उठाया और रंग भरे पानी के पूल में फेंक दिया. होली के लिए मेरा प्यार तभी खत्म हो गया और उसके बाद आज तक मैंने होली नहीं खेली.”

बता दें, करन जौहर जिन्‍हें लोग केजो के नाम से भी जानते हैं, भारतीय फिल्‍म डायरेक्‍टर, निर्माता, स्‍क्रीनराइटर, कास्‍ट्यूम डिजाइनर, अभिनेता और टेलीविजन पर्सनैलिटी हैं जो कि हिन्‍दी फिल्‍मों में अपने काम की वजह से जाने जाते हैं.

बतौर निर्देशक करण जौहर ने फिल्म ‘कुछ कुछ होता है’ से धमाकेदार शुरुआत की. पहली ही फिल्म की सफलता ने उन्हें नामचीन निर्देशकों की लिस्ट में शामिल कर दिया. इसके बाद उन्होंने ‘कभी खुशी कभी गम’, ‘कभी अलविदा ना कहना’, ‘माय नेम इज खान’ से लेकर ‘ऐ दिल है मुश्किल’ तक निर्देशक की सफल पारी खेली.

(इनपुट आईएनएस)