मशहूर कहानीकार सअदात हसन मंटो की कहानी पर आधारित फिल्म तोबा टेक सिंह में देश के विभाजन का दर्द एक बार फिर बयां किया जाएगा. बॉलावुड डायरेक्टर केतन मेहता का कहना है कि भारत और पाकिस्तान के विभाजन के इतने वर्षों बाद भी दोनों देशों के बीच कड़वाहट मानव संबंधों को प्रभावित करते हैं. उनके निर्देशन में बनी शॉर्ट फिल्म ‘टोबा टेक सिंह’ ओटीटी प्लेटफॉर्म जी5 फिल्म फेस्टिवल के तहत दिखाई जाएगी.Also Read - सेलेब्स के लिए बुरी खबर, मालदीव ने की भारतीयों की एंट्री बंद, यूजर्स ने किया ट्रोल- जिंदगी में इनकी अंधेरा हो गया

Also Read - बॉलीवुड अभिनेता और सांसद अयोध्या की रामलीला में निभाएंगे किरदार, टीवी पर होगा लाइव प्रसारण

https://youtu.be/_h8xmwcXqcw Also Read - अयोध्या: फिल्मी सितारों और राजनेताओं से सजेगी रामलीला, जानें कौन बनेंगे राम और रावण

इसके अंतर्गत 12 निर्देशकों द्वारा निर्देशित 12 शॉर्ट फिल्मों की सीरीज दिखाई जाएगी. इसके पीछे शुरुआती विचार था कि छह भारतीय और छह पाकिस्तानी निर्देशक साथ मिलकर इन शॉर्ट फिल्मों का निर्माण करें और सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए एक-दूसरे के देश की यात्रा करें. केतन मेहता ने ‘टोबा टेक सिंह’ की स्क्रीनिंग के बाद मीडिया से कहा, “हम सभी अमृतसर में मिले और वाघा सीमा पर गए. हमने कई फोटो खिंचवाए, लेकिन हमें पाकिस्तान जाने के लिए वीजा नहीं मिला. इस तरह, हम सभी को ‘टोबा टेक सिंह’ जैसे महसूस हुआ.”

उन्होंने कहा, “एक फिल्म निर्माता के रूप में, हम इसे बड़े पर्दे पर दिखाना चाहते थे, जब पूरी प्रकिया शुरू हुई, हमने सोचा, यह दो देशों के बीच फिल्मों के जरिए संबंध विकसित करने का एक शानदार अवसर होगा.” फिल्म में मुख्य भुमिका विनय पाठक और पंकज कपूर ने निभाई है. जी5 फिल्म फेस्टिवल के अंतर्गत एक फिल्म को प्रत्येक शुक्रवार को दिखाया जाएगा. इस फेस्टिवल की शुरुआती फिल्म ‘टोबा टेक सिंह’ है और यह 24 अगस्त को दिखाई जाएगी.

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.