नई दिल्ली: बॉलीवुड के दिग्गज गायक किशोर कुमार (Kishore Kumar Death Anniversary) की आज 33वीं पुण्यतिथि है. ‘मेरे महबूब कयामत होगी’, ‘मेरे सामने वाली खिड़की में’, ‘मेरे सपनों की रानी कब आएगी तू’ जैसे लोकप्रिय गीतों के लिए मशहूर पार्श्र्वगायक किशोर कुमार हिंदी फिल्म-जगत के एक ऐसे धरोहर हैं, जिसे बनाने-संवारने में कुदरत को भी सदियों लग जाते हैं. आज भले ही वह हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी विरासत अमर है. आज के इस खास मौके पर बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने उन्हें याद करते हुए उनका शुक्रिया अदा किया है. Also Read - श्वेता त्रिपाठी की इस एक्टर से की जा रही है तुलना, हीरोइन का आया रिएक्शन

दरअसल अभिनेता ने दिवंगत गायक को अपने करियर में सबसे असामान्य भूमिकाओं में से एक को निभाने का साहस का स्त्रोत बताया. आयुष्मान यहां साल 2019 की कॉमेडी फिल्म ‘ड्रीम गर्ल’ में अपनी भूमिका की बात कर रहे हैं, जिसमें वह एक ऐसे पुरुष की भूमिका निभाते हैं, जो महिला की आवाज निकालने में सक्षम होता है, जिससे उन्हें जीवन में सफलता मिलती है और परेशानी भी होती है. बहुमुखी प्रतिभा के धनी किशोर कुमार को विभिन्न आवाजों में गाने की क्षमता के लिए जाना जाता था, जिसमें महिला आवाज भी शामिल थी. Also Read - फिल्म 'बधाई हो' को हुए 2 साल, आयुष्मान खुराना ने बताई फिल्म की खासियत

आयुष्मान ने कहा, “जब आप उनकी फिल्म ‘हाफ टिकट’ पर नजर डालते हैं, तो ‘आके सीधी लगी दिल पे’ गीत में उन्होंने पुरुष और महिला दोनों स्वरों में गाया है. बहुत से लोगों को यह पता नहीं है, लेकिन उनकी बात ने ही मुझे विश्वास दिलाया कि मैं ‘ड्रीम गर्ल’ कर सकता हूं. मैंने इससे हिम्मत बढ़ाई, क्योंकि मेरे पास किशोर कुमार एक उदाहरण के तौर पर थे, जिन्होंने इसे बहुत अच्छी तरह से निभाया था.” Also Read - Kishore Kumar Death Anniversary: भाई अशोक कुमार के जन्मदिन पर ही किशोर कुमार ने ली थी आखिरी सांस

आयुष्मान किशोर कुमार की जोखिम लेने की क्षमता से भी बहुत प्रेरित हैं. अभिनेता ने आगे कहा, “किशोर कुमार हमेशा एक संस्था की तरह रहे हैं, और वह एक बड़ी प्रेरणा रहे हैं. वह लीजेंड हैं, क्योंकि वह हमेशा रचनात्मक रूप से बेचैन और निडर थे, और मुझे उनकी विरासत के बारे में प्यार है. वह हमेशा प्रयोग करने और जोखिम लेने वालों में से थे.”

इनपुट- एजेंसी