नई दिल्ली: स्वर सामाज्ञी लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) ने सोमवार को संगीतकार राहुल देव बर्मन (RD Burman Death Anniversary) को उनकी पुण्यतिथि पर याद किया. मंगेशकर ने कहा कि दिवंगत संगीतकार, जो मित्रों और प्रशंसकों के लिए पंचम के नाम से जाने जाते थे, उन्होंने मुझे अपनी बड़ी बहन की तरह सम्मान दिया था. लता मंगेशकर ने याद करते हुए कहा, “आज आरडी बर्मन साहब की पुण्यतिथि है. बहुत कम लोगों को पता है कि पंचम सरोद और तबला सीखा हुआ था और अच्छा बजाता था. वो एक कमाल का कलाकार था. मुझे अपनी बड़ी बहन मानता था. मैं उसके याद को विनम्र अभिनंदन करती हूं.”Also Read - Lata Mangeshkar Health: कोरोना के साथ निमोनिया से भी जूझ रहीं लता मंगेशकर, जानें कैसी है उनकी तबियत?

Also Read - Lata Mangeshkar Health Update: स्वर कोकिला लता मंगेशकर की सेहत में सुधार, फिलहाल ICU में हैं भर्ती

Also Read - दिलीप कुमार और लता मंगेशकर में इस वजह से 13 सालों तक नहीं हुई थी कोई बात, जानें क्या थी वजह

आरडी बर्मन का 54 साल की उम्र में 4 जनवरी, 1994 को निधन हो गया था. बता दें कि उनके प्रोफेशनल करियर की शुरुआत 1958 में हुई. उन्होंने “सोलवा साल” (1958), “चलती का नाम गाड़ी” (1958), और “कागज़ का फूल” (1957), तेरे घर के सामने (1963), बंदिनी (1963), जिद्दी (1964), गाइड (1965) और तीन देवियाँ (1965) शामिल है. अपने पिता की हिट रचना ‘है अपना दिल तो आवारा’ के लिए बर्मन ने माउथ ऑर्गन भी बजाय था.