मुंबई: दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान के निधन को कई महीने बीत गए हैं. लेकिन उनके बड़े बेटे बाबिल उनको हमेशा याद करते हुए सोशल मीडिया पर उनकी पुरानी तस्वीरें साझा करते रहते हैं. इस बार अभिनेता के बड़े बेटे बाबिल ने उनके कब्र की तस्वीर अपने इंस्टाग्राम पर साझा की, जहां अभिनेता की कब्र के चारो ओर गुलाब के फूल दिखाई दे रहे हैं.Also Read - विदेश से लौटे कमल हासन Coronavirus से पॉजिटिव, बताया अस्पताल में भर्ती हूं

बाबिल ने अपने मन की बातें रखते हुए लिखा, “जब एक आदमी पैदा होता है तो वह कमजोर और लचीला होता है. जब वह मरता है तो वह कठोर और असंवेदनशील हो जाता है. जब एक पेड़ बढ़ रहा होता है तो वह कोमल और लचीला होता है, लेकिन जब वह सूखता है और कठोर हो जाता है तो वह मर जाता है. Also Read - Rajkummar Rao Patralekhaa Marriage Photos: 11 साल रिलेशनशिप में रहने के बाद राजकुमार राव ने की पत्रलेखा से शादी, यहां देखें शादी की खूबसूरत तस्वीरें

उन्होंने लिखा, “कठोरता और ताकत मौत के साथी हैं. जबकि अनुकूलनशीलता और कमजोरी अस्तित्व की ताजगी के भाव हैं. क्योंकि जो कठोर हुआ है वह कभी नहीं जीतेगा- तार्कोवस्की. मैं आखिरी तर्क-वितर्को के लिए अभी भी ‘स्टाकर’ फिल्म देख रहा हूं. मैं फिल्म को समय-समय पर रोकता हूं. ठीक उसी तरह जैसे आप मेरे साथ करते थे. आप मुझे उस वक्त सिखाते थे, मैं खुद को अब सिखाता हूं.” Also Read - सोनू सूद ने कहा- मेरी बहन पंजाब विधानसभा चुनाव में आजमाएंगी किस्मत, खुद के सवाल पर दिया ये जवाब

View this post on Instagram

“When a man is just born, he is weak and flexible. When he dies, he is hard and insensitive. When a tree is growing, it’s tender and pliant, but when it’s dry and hard, it dies. Hardness and Strength are death’s companions. Pliancy and weakness are expressions of the freshness of being. Because what has hardened will never win.” – Tarkovsky . Here’s to watching ‘Stalker’ with you for my first film essay three years ago, I’m watching ‘Stalker’ now for the last dissertation. I pause the film from time to time, just like you did with me, to take it all in, you were teaching me then, now I teach myself. Here’s to you, who never hardened, here’s to your forgiving, sensitive soul.

A post shared by Babil (@babil.i.k) on

गौरतलब है कि महीनों तक कोलन कैंसर से जूझने के बाद इरफान ने 29 अप्रैल को मुंबई में अंतिम सांस ली.

(इनपुट आईएएनएस)