अकादमी पुरस्कार के लिए नामित निर्माता डेविड वोमार्क का कहना है कि फिल्मों के लिहाज से भारत एक बड़ा बाजार है, लेकिन हॉलीवुड फिल्में अभी यहां पकड़ नहीं बना पाई हैं. डेविड ने 2012 की फिल्म ‘लाइफ ऑफ पाई’ को सहयोग किया था, जिसमें इरफान खान और आदिल हुसैन जैसे भारतीय कलाकारों ने काम किया था. Also Read - Oscar 2020: कोरियन फिल्म ‘पैरासाइट’को मिले तीन अवॉर्ड, 'जोकर' के लिए वॉकिन फीनिक्स बेस्ट एक्टर, ब्रैड पिट बेस्ट सपॉर्टिंग एक्टर

वोमार्क ने एक बातचीत में कहा, “‘लाइफ ऑफ पाई’ एक अंतर्राष्ट्रीय फिल्म है. अगर आप बॉक्स-ऑफिस कलेक्शन देखें, तो अंतर्राष्ट्रीय कमाई में बड़ा हिस्सा एशिया से है. भारतीय बाजार में हॉलीवुड फिल्मों को अधिक भुनाया नहीं गया है.”

वह कहते हैं कि भारत में ‘लाइफ ऑफ पाई’ की शूटिंग के दौरान उन्हें देश की संस्कृति से प्यार हो गया था. उन्हें बड़े पर्दे पर कहानी को कहने के तरीके से भी प्यार हो गया था. वह कहते हैं, “भारतीय सिनेमा में कहानी कहने का एक अलग तरीका है. मैंने बहुत सारी भारतीय फिल्में देखी और मुझे स्वतंत्र भारतीय सिनेमा से प्यार हो गया.. गुणवत्तापूर्ण सिनेमा.”

वोमार्क लव सोनिया का प्रचार करने के लिए वापस भारत आए हुए हैं. यह फिल्म बाल तस्करी पर आधारित है. उन्होंने कहा, “लाइफ ऑफ पाई के दौरान मेरी मुलाकात तबरेज नूरानी (फिल्म के निर्देशक) से हुई. यह तीन वर्षो लंबी यात्रा थी. फिल्म के प्रारंभ में ही तबरेज से मेरी मुलाकात हुई और फिल्म के अंत में उन्होंने मुझे वह स्क्रिप्ट दी, जिसपर वह सात-आठ सालों से काम कर रहे थे. मैंने उसे पढ़ा और मुझे वह अच्छी लगी. तबरेज और मैंने इसे एक साल में विकसित किया.”