नई दिल्ली: फिल्मकार करण जौहर (Karan Johar) को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने एक नोटिस भेजा था, जिसमें उनके घर पिछले साल हुई एक पार्टी की जानकारी मांगी गई है. इस पार्टी में ड्रग्स के इस्तेमाल का आरोप लगाया गया है. इस मामले पर महाराष्ट्र कांग्रेस ने बड़ा सवाल उठाते हुए कहा है कि एजेंसी ने आखिर कंगना रनौत (Kangana Ranaut) को पूछताछ के लिए क्यों नहीं बुलाया. कांग्रेस नेता सचिन सावंत ने कहा है कि एनसीबी करण जौहर को तो नोटिस भेज रही है, मगर वह अभिनेत्री कंगना रनौत को क्यों नहीं बुला रही है, जिन्होंने एक वीडियो में खुले आम कहा था कि उन्होंने ड्रग्स का सेवन किया है, लेकिन न तो उनसे अभी तक इस बारे में कुछ पूछा गया है और न ही नोटिस भेजा गया है.Also Read - NCB at Shahrukh Khan's Residence: 'मन्नत' और अनन्या पांडे के घर पहुंची नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम

इसके साथ ही सावंत ने यह भी कहा कि जिस वीडियो पर करण जौहर से जवाब मांगा गया है, वो वीडियो साल 2019 का है और उस समय देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री थे और गृह विभाग संभाल रहे थे. उन्होंने कहा कि आखिर क्यों इस वीडियो की जांच नहीं करवाई गई. सावंत ने सवाल उठाते हुए कहा कि एनसीबी उन मुद्दों की जांच कर रही है, जिनका सुशांत सिंह राजपूत मामले से कोई संबंध नहीं है, ये सबकुछ केवल महाराष्ट्र सरकार को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है. Also Read - छोटी-मोटी चीजों में Kangana Ranaut का नहीं लगता मन, कुछ Dhaakad करने के लिए तड़पता है दिल जैसे...

पिछले कुछ महीनों में महाराष्ट्र सरकार की सत्तारूढ़ सहयोगी शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस ने कई बार सुशांत मामले को उठाया है और उनकी मौत की जांच की स्थिति जानने की मांग की है. सीबीआई जांच के साथ ही एनसीबी भी बॉलीवुड-ड्रग्स माफिया सांठगांठ के सिलसिले में जांच कर रही है. Also Read - Kangana Ranaut ने किया 'धाकड़' की रिलीज डेट का ऐलान, तहलका मचाने वाला है लुक

इनपुट- एजेंसी