भारतीय फिल्म जगत के बेहतरीन गायक प्रबोध चंद्र डे उर्फ मन्ना डे की आज पुण्यतिथि है. मन्ना डे का जन्म 1 मई 1920 को कोलकाता में हुआ था और 24 अक्टूबर 2013 को वे दुनिया से अलविदा कह गए थे. मन्ना डे के पिता उन्हें वकील बनाना चाहते थे, लेकिन उनका मन संगीत की ओर था और वह इसी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते थे. मन्ना डे ने संगीत की प्रारंभिक शिक्षा अपने चाचा के सी डे से हासिल की. बंगाली फिल्मों में गाए उनके गीत काफी पसंद किए गए. इस बीच उन्होंने 4,000 से ज्यादा गाने रिकॉर्ड किए. उनकी आवाज का असर कुछ ऐसा था कि लोगों कहते थे मोहम्मद रफी और किशोर कुमार के किसी भी गाने को मन्ना डे बड़े ही आराम से गा सकते थे, लेकिन मन्ना डे के गाए गाने को आवाज दे पाना रफी और किशोर कुमार के लिए मुमकिन नहीं था. अपने करियर में चार हजार से ज्यादा गाने गाने वाले मन्ना डे हिन्दी फिल्मों के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना के फैन थे. उनका मानना था कि जितनी खूबसूरती से राजेश खन्ना गानों पर परफॉर्म करते हैं, वैसा कोई और नहीं कर सकता. फिल्म ‘आनंद’ का गाना ‘जिंदगी कैसी है पहेली’ को राजेश खन्ना पर फिल्माया गया था. इसे मन्ना डे ने गाया था.

PICS: नीले रंग में रंगी मौनी रॉय, डेनिम स्कर्ट में गजब की हॉट दिख रही हैं

20 का ये गाना मन्ना डे और लता मंगेशकर ने गाया था जिसे नरगिस और राज कपूर पर फिल्माया गया था.

फिल्मों में कई खूबसूरत गानों को आवाज देने वाले मशहूर गायक मोहम्म्द रफी ने कभी कहा था कि लोग मेरे गाने सुनते हैं और मैं मन्ना डे को सुनता हूं.फिल्म पड़ोसन के इस गाने को मन्ना डे ने किशोर कुमार और महमूद के साथ गाया था.

बता दें, लखनऊ में एक प्रोग्राम में परफॉर्म करने गए मन्ना डे के जेल जाने तक की नौबत आ गई थी. दरअसल, चारबाग रलेवे स्टेशन के पास एक संगीत समारोह का आयोजन होना था. कार्यक्रम के लिए दर्शक इंतजार कर रहे थे और उधर आयोजक रफूचक्कर हो गए थे. आखिरकार पुलिस में शिकायत कर दी गई और शो के लिए बतौर मेहमान बुलाए गए मन्ना डे को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ करने पहुंच गई. तभी शहर के रंगकर्मियों ने मिलकर मामला साफ किया और मन्ना डे को राहत मिली.

 

बॉलीवुड और मनोरंजन जगत की ताजा ख़बरें जानने के लिए जुड़े रहें  India.com के साथ.